Chemical Evolution – Molecules of Life









Chemical Evolution – Molecules of Life 

” मैं यहाँ पड़े पड़े सड़ने नही वाला! कितने अजीब अजीब से हैं यहाँ सब!

I am not going to waste myself here! How weird everyone is over here.

और कैसे ये रंग बदलते रहते हैं! मुझे अपनों का साथ चाहिए !

And how they keep changing colors! I want company of someone like me.

हम जैसे हज़ारों एक साथ जीएँगे. जो हम जैसे ना हो उनका क्या ?

1000s like me will join and live together. What about those who are not like us ?

क्या वो हमारे साथ है की नही ? हमारे साथ है वो भी जीएँगे!

Are they with us or against us ? If they are with us, they may live

वरना उनकी खैर नही! भाड़ मे जाए! ”

Else to hell with them!”

मन मे ये बात ठान लिए चल दिया बंजारा घुमराह! घाना अंधेरा!

Determined from within, they left, lost and wandering. Deep darkness.

किसी गहरे समुंदर के सतह पर ज्वालामुखी के ऊष्णता से खुद मे जोश भरता हुआ!

Taking fire from some undersea volcanoes, erupting up, riding with their heat.

वहाँ बनते गैस के बुलबुलों के सहारे पत्थरों के बीच पतली पतली दरारें बनाकर.

Surfing on the gas bubbles, making cracks and crevices through rocks and rubbles.

वो निकल पड़ा खुद को संभालकर उसका पानी मे डूबा हुआ सिर

He left for a crazy journey, bracing carefully, his with head inside water

और उसके सिर से सीधे जुड़ा हुआ

And his body attached

किसी पानी से निकाली गयी ज़िंदा मछली की तरह तड़प्ता हुआ लंबा सा पूंछ.

wiggling like a live fish thrown just out of water.


Inspired by : Chemical Evolution (

Stated Clearly: Chemical Evolution Video


Be the first to comment

Leave a comment

Your email address will not be published.