All posts by Nikhilesh

Atomic Card Game: Birds of same feather (सब एक ही थैली के चट्टे बट्टे)

Online Game link:

https://www.matchthememory.com/elementsgroup

Description: 

birds of same feather flock together के लिए चित्र परिणाम    elements of same group electronic configuration के लिए चित्र परिणाम

Birds of same feather definitely flock together. Similarly chemical behavior of atoms with similar outer electron configuration are also similar. So they belong to the same group in the modern periodic table.

एक ही थैली के चट्टे बट्टे….एक ही समूह के सभी तत्वों के बाहर्तम कक्षा के एलेक्ट्रॉन्स की संख्या बराबर होती है इसीलिए वे एक जैसे रसायनिक गुण भी दर्शाते हैं. इसीलिए उन्हे आधुनिक आवर्त सारणी मे एक साथ रखा गया है.

For playing this game you need atomic cards as given in –> http://asanvigyan.in/2017/03/09/atomic-cards/

Game Rules:

  • Distribute the Atomic Cards randomly turned upside down. तत्वों के सभी ताशों को उल्टा पलट दें और अनियमित रूप से रख दें.
  • Each player takes turn to rotate and see two cards. एक बारी मे खिलाड़ी दो ताशों को पलटेंगे और देखेंगे.
    • All the players can keep the above table for reference for matching pairs. सभी खिलाड़ी जोड़ी बनाने के लिए ऊपर दिए सारणी का मदद लें सकते हैं.

  • If the pair is not made, the cards are kept back in place and now it’s the other player’s turn. अगर जोड़ी नही बना तो वापस वहीं रख देंगे. अब पारी दूसरे खिलाड़ी की.
  • Use your memory power to find pairs of elements from same group. अपने याद करने की शक्ति का उपयोग करके तत्वों के जोड़ी ढूँढे.
  • On finding the pairs, place them as per modern periodic table.  जोड़ी मिलने पर आवर्त सारणी के अनुसार रख दें.
    • A sample points table is given below. एक उदाहरण के लिए नीचे दिए सारणी का उपयोग करें.

So how was the game ? Did you enjoy it ? Did it make classification of elements easy ?

आपको खेल कैसा लगा ? क्या आपको मज़ा आया ? क्या इससे तत्वों का वर्गीकरण आसान हुआ ?

Photo ref: Periodic elements (https://cnx.org/contents/mPjp2GYc@1/Fundametals-of-Matter-Elements)

Atomic Cards (तत्व ताश)

Given above are atomic cards. After taking a printout of the cards, please refer to the links below for playing some fun card games!

उपर दिए गये ताशों का प्रिंट आउट लेने के बाद उनके साथ कुछ मज़ेदार गेम्स खेलने के लिए  नीचे दिए गये लिंक्स को क्लिक करें!

Game 1 link: Birds of Same Feather (एक ही थैली के चट्टे बट्टे)

Game 2 link: Trump Elements (तुरुप तत्व)

Please share on comments for feedback, improvisation or if you have more game-ideas !!!  अगर आपके पास कोई राय, सझाव या नये खेल के विचार हों तो शेर करें !!

Education – A Non-Zero Sum Game

 

EDUCATION – A NON ZERO SUM GAME 

 

Our education system is in Emergency,

But if we see knowledge as the new currency,

And the board exams are getting close,

Let’s come and fill the holes with rays of hope!

 

Every year we witness the same old story.

Some students do their best, and it’s their days of glory.

But many fail and fall into a slippery slope.

Shunning budding dreams, as if there’s no scope?

 

With focus on children and their urgent needs,

The nation can support in both words and deeds.

With the platform being made to unleash creativity,

For all the superstars, it’s an opportunity!

 

Why not cover syllabus in prime-time TV ?

And make learning even more fun and easy!

Let the teachers be this season’s celebrities,

From fear and boredom; students need to be freed!

 

If Bachchan ji can take a textbook story and recite,

The kids would love to learn and quickly memorize.

Science learnt by experiment and watching animations.

Textbook poems sung in Rehman ji’s compositions!

 

Mr.Arnab! The student nation wants to know,

How statistics play a role in elections and polls!

Why not all get together; better make sure ?

That children learn in time and their future’s secure!

 

Kids in uniform from all nearby schools,

Learning in the theaters, and the show’s house-full.

Once in a while if you are really lucky too,

Our PM Modiji may teach a lesson or two!

 

Education should be a non-zero-sum game,

All the players in the game shall collectively gain!

Locked in a classroom it cannot sustain.

It’s time to run massive education campaigns.

 

Let farmers come with their green plants and plows,

Teach us how to make those wonderful trees grow ?

Children will rush and wash away their lonely sorrows

Farmers play a central role for a better tomorrow.

 

Study clinics shall be run by common citizens like me,

Where students can come and clear their doubts for free!

With focus on children and their learning needs,

Merging science, commerce, arts and make the system complete!

 

With daily dosage of much needed motivation,

And formulas announced in every railway stations,

Let us convert this fear of examination,

Into a worldwide knowledge celebration!!

___________________________________________________________________________________

Inspired by:

‘Vidhya Mahima’ Sanskrit poems:

न चोरहार्यं न च राजहार्यंन भ्रातृभाज्यं न च भारकारी ।
व्यये कृते वर्धते एव नित्यं विद्याधनं सर्वधन प्रधानम् ॥

Cant be stolen by a thief, cant be snatched by kings, Cant be partitioned by brothers, Nor is it heavy. The more you expend, the more it grows; The wealth of knowledge is the supreme of all wealths.

 

अपूर्वः कोअपि कोषोंयम विद्यते तव भारति

व्ययतो वृद्धि मायाति क्षयमायाती संचयात्

Wonderful is this wealth of knowledge, the more you share the more it grows, and on segregation it diminishes…

 ___________________________________________________________________________

More links to dive upon…

http://blogs.edweek.org/edweek/finding_common_ground/2014/04/treating_education_as_a_zero-sum_game.html

http://educationnext.org/education-is-no-zero-sum-game/

Education, A Non-Zero Game

http://ebhle.org/ebhle/ ( Pl download Vision.ppt)

__________________________________________________________________________________

Please share your ideas and views on the comment:

What should be at the core of the curriculum assessment and implementation: competition or co-operation ?

Why do different fields of subjects get alienated from one another as we progress towards ‘specialization’?

Can there be synergism in the merger of different subjects, (especially between disciplines of arts and science)?

Bearing in mind that all of the varied subjects were developed by human beings only, can we integrate the different streams and make education system both enjoyable and enlightening ?

___________________________________________________________________________________

स्वाध्याय – 8) समझें धातु अधातु Self learn 8) Understanding metals and non metals

इस पोस्ट मे हम 10 वी कक्षा के 8 वी अध्याय “समझें धातु अधातु” के प्रश्नोत्तर करेंगे. नीचे दिए वीडियोस से आप सीख सकते हैं. प्रश्नों को एक बार खुद से सुलझाने के बाद नीचे उसके उत्तर देख सकते हैं.

In this post, QnAs of 8th chapter Metals and Non metals is covered. Please make best use of the references provided to learn and attempt answering the questions by yourself first. Answers follows the list of questions. All the best!

https://www.youtube.com/watch?v=syQwvZWahxI Part -1

https://www.youtube.com/watch?v=fPWHsje3Qxo Part -2

https://www.youtube.com/watch?v=TrC9Px06RhI Part – 3

https://www.youtube.com/watch?v=XAu4RQ6uCTg Part -4

( Reference for Aluminium Extraction: https://www.youtube.com/watch?v=WaSwimvCGA8 )

_____________________________________________________________________________________________________________

स्वाध्याय 10-वी कक्षा  Self-learn 10th standard 

विभाग-ब अध्याय समझे धातु-अधातु Section-B Chapter 8 Understanding Metals and Non-metals

प्रश्न Questions

_____________________________________________________________________________________________________________

प्र. १ नाम लिखें (Write the names of following)

१) उभयधर्मी ऑक्साइड तैयार करनेवाला धातु : _____________ 1) Amphoteric oxide forming metal:______________

२) तांबे तथा जस्ते का सम्मिश्रण : ________________ 2) Alloy of Copper and Zinc: __________________

३) अल्यूमिनियम निष्कर्षण मे विधयुत अपघटन विलयन मे तापमान कम करने उपयोग मे आनेवाला यौगिक : __________

3) Compound used in electrolytic extraction of Aluminium for reducing melting point of mixture: _____________

४) ठंडे पानी से अभिक्रिया न करनेवाला धातु परंतु बाश्प से अभिक्रिया करने वाला एक धातु : ________________

4) One metal that doesn’t react with cold water but reacts with hot water vapour: __________________

५) अल्यूमिनियम के सामान्य आयस्क (Ore): __________ 5) Common ore of Aluminium: _________________

प्र.२ नीचे दिए गये विशेषताओं के आधार पर आधातु तथा उनके यौगिकों को लाघु होने वाली पाँच विशेषताएँ कौनसी है लिखिए.

Find the 5 properties associated with non-metals and their compounds

१) तन्यता (Ductility)

२) विद्युत का बहन (Electrical Conductivity)

३) अम्लीय ऑक्साइड (Acidic Oxide)

४) एनोड पर मुक्त होनेवाला (Liberates in Anode)

५) क्षारीय ऑक्साइड (Alkaline oxide)

६) भंगूर (Brittle)

७) (१, २, ३) संयोजकता एलेक्ट्रान ( 1,2 or 3 valence electrons)

८) कॅतोड पर मुक्त होने वाला (Liberates in Cathode)

९) (५, ६, ७) संयोजकता एलेक्ट्रान ( 5,6 or 7 valence electrons)

प्र ३) निम्न रूप मे पाए जानेवाले धातुओं के नाम लिखो (Write names of metals found in the following form)

१) सल्फायड (Sulfide)

२) कार्नबनेट (Carbonate)

३) ऑक्साइड (Oxide)

प्र ४) निम्न को स्पष्ट करो (Define the following)

१) खनीज (Mineral): __________________________________________

२) मृदाअशुध्धि (Gangue): _______________________________________

३) अयस्क (Ore): _____________________________________________

४) धातुविज्ञान (Materials Science): _________________________________

५) भंजन (Roasting): __________________________________________

प्र ५) वैज्ञानिक कारण लिखो (Give scientific reason)

१) सोडियम को हमेशा मिट्टी के तेल मे रखते हैं. Sodium is kept in kerosene oil.

२) सोना तथा चाँदी का उपयोग गहने बनाने के लिए करते हैं. Gold and silver is used for making jewellery.

३) पानी से क्रिया होनेपर कॅल्षियम पानी मे तैरता है. Calcium floats on water when it reacts.

४) आयनिक यौगिकों का द्रावणांक तथा क्वतांक उच्च होता है. Ionic compounds have high melting and boiling points.

५) काले पड़े हुए तांबे के बर्तन सॉफ करने के लिए नींबू या ईमली का उप्यूग होता है. Blackened copper utensils are cleaned by lemon or tamarind.

प्र ६) सुधाने तांबे का सिक्का सिल्वर नाइट्रेट के विलयन मे डुबया. थोड़े समय पश्‍चात उसे वह सिक्का चमकता हुआ दिखा.

क्यों ? संतुलित रसायनिक समीकरण लिखो.

Rusted copper coin is put in silver nitrate solution. After sometime it started to shine. Write balanced equation.

प्र ७)‘A’धातु का एलेक्ट्रॉनिक समीकरण 2,8,1 है. ‘B’ धातु का एलेक्ट्रॉनिक समीकरण 2,8,8,2 है. कौनसी धातु अधिक क्रियाशील है ? उसे पहचानो. उसकी तनु हाइडरोक्लॉरिक अम्ल के साथ होने वाली अभिक्रिया लिखो.

‘A’ metal has electronic configuration 2,8,1. ‘B’ metal has electronic configuration 2,8,8,2. Which is more reactive? Write its reaction with dilute hydrochloric acid.

प्र ८) जस्ते के सल्फ़ाईड से जस्ता प्राप्त करने दो रसायनिक अभिक्रिया होती है.

Extraction of Zinc from Sulfide involves 2 chemical reactions.

ZnS (भंजन/Roasting) —>

ZnO (अवकरण/Reduction) —->

A तथा B के लिए समीकरण लिखो. Give the products of the reactions

प्र ९) निम्न विधानों के रसायनिक समीकरण मे रूपांतरण करके उसे संतुलित करो.

Give chemical reactions which occur under following conditions.

१) अल्यूमिनियम पर से बाश्प प्रवाहित की गई. Water vapour is passed over Aluminium.

२) तांबे का उसके सल्फायड धातु से निष्कर्षण.Extraction of copper from its sulphide.

३) उष्मा के प्रभाव (Thermit) अभिक्रिया.Thermit reaction.

४) अल्यूमिनियम ऑक्साइड, जलीय सोडियम हाइडरॉक्साइड के विलयन मे घुलने से क्या होगा ?

What happens when aluminium oxide reacts with sodium hydroxide.

प्र १०) अल्यूमिनियम के निष्कर्षण मे In Aluminium purification

१) बॉक्साइट का सांदीकरण करने के पद्धति का नाम लिखो. Write the name of the method for purification of bauxite.

२) अल्यूमिनियम का विद्युत अपघटनी क्षरण होते समय कॅतोड पर होने वाली अभिक्रिया लिखो.

On electrolytic reduction of aluminium, write the reaction that happens in cathode.

३) क्रायॉलैइट के कार्य तथा सूत्र लिखो. Write the formula and function of cryolite

४) अल्यूमिनियम हाइडरॉक्साइड पर उष्मा के प्रभाव का संतुलित रसायनिक समीकरण लिखिए.

Write balanced equation for the effect of heat on aluminium hydroxide.

५) अल्यूमिनियम निष्कर्षण की नामांकित आकृति बनाओ. Draw diagram of aluminium extraction.

६) समय समय पर एनोड बदलना क्यों आवश्यक है ? Why should anode be changed time to time ?

७) अल्यूमिनियम के यौगिक को सांद्र कॉस्टिक सोडे के साथ गर्म करने पर क्या होगा ? संतुलित रासायनिक समीकरण लिखो.

What happens when aluminium hydroxide is heated with concentrated caustic soda? Write balanced equation.

प्र ११) समिश्र मे जंग लगने सा रोकने की दो पद्धतियाँ लिखो. Describe two methods for preventing corrosion of alloys.

प्र १२) समिश्र अर्थर्थ क्या ? रसायनिक घटकों के साथ दो उदाहरण लिखो. What are alloys? Give 2 examples with chemical composition.

प्र १३) निम्न धातुओं को उनके अभिक्रीयाशीलता के उतरते क्रम मे लिखो. Write in decreasing order of metal reactivity

Cu, Mg, Fe, Na, Ca, Zn

प्र १४) धातु तथा आधातु मे एलेकट्रोनों का लेनदेन होकर आयनिक यौगिक कैसे बनते हैं, स्पष्ट करो. धातु Mg तथा Cl आधातु इनकी सहायता से उत्तर स्पष्ट करो.

Describe how metals and non metals react with exchange of electrons with the help of Mg and Cl as example.

प्र १५) ‘X’ तत्व की ऑक्सिजन से अभिक्रिया होकर X2O यह ऑक्साइड बनता है. यह ऑक्साइड पानी से घुलता है तथा इसमे लाल लिटमस नीला होता है. X तत्व धातु है या आधातु एक उदाहरण के साथ स्पष्ट करो.

‘X’ element forms X2O oxide with oxygen. When oxide dissolves in water, it changes red litmus blue. Is ‘X’ a metal or non-metal, explain with example.

_____________________________________________________________________________________________________________

स्वाध्याय 10-वी कक्षा (महाराष्ट्रा शिक्षण-मंडल) Self-learn 10th standard (Maharashtra Board)

विभाग-ब अध्याय समझे धातु-अधातु Section-B Chapter 8 Understanding Metals and Non-metals

उत्तर Answers

_____________________________________________________________________________________________________________

प्र. १ नाम लिखें (Write the names of following)

१) उभयधर्मी ऑक्साइड तैयार करनेवाला धातु : अल्यूमिनियम 1) Amphoteric oxide forming metal: Aluminium

२) तांबे तथा जस्ते का सम्मिश्रण : पीतल 2) Alloy of Copper and Zinc: Brass

३) अल्यूमिनियम निष्कर्षण मे विधयुत अपघटन विलयन मे तापमान कम करने उपयोग मे आनेवाला यौगिक: क्रयोलैइट

3) Compound used in electrolytic extraction of Aluminium for reducing melting point of mixture: Cryolyte

४) ठंडे पानी से अभिक्रिया न करनेवाला धातु परंतु बाश्प से अभिक्रिया करने वाला एक धातु : मॅग्नीज़ियम (Mg)

4) One metal that doesn’t react with cold water but reacts with hot water vapour: Magnesium (Mg)

५) अल्यूमिनियम के सामान्य आयस्क (Ore):  बॉक्साइट 5) Common ore of Aluminium: Bauxite

 

प्र.२ नीचे दिए गये विशेषताओं के आधार पर अधातु तथा उनके यौगिकों को लाघु होने वाली पाँच विशेषताएँ कौनसी है लिखिए.

Find the 5 properties associated with non-metals and their compounds.

१) विद्युत का बहन (Electrical Conductivity): धात्विक गुण क्योंकि धातुओं के मुक्त एलेक्ट्रॉन्स का विद्युत बल मे बहना संभव है. Property of metal due to presence of free electrons which can move under electromotive force.

२) तन्यता (Ductility): धात्विक गुण क्योंकि धातुओं मे, अणुओं का उनके स्वतंत्र एलेकट्रोनों के बीच समानुवर्ती (हर दिशा से एक समान) धात्विक बंधन के वजह से, खींचाव बल लगने पर दरार बनने के बदले विस्थापन/सरकन हो जाता है.

Property of metal due to easy dislocation and movement of metal atoms in lattice bound by isotropic metallic bond amidst the sea of free electrons on application of tensile force, instead of cracking.

धातुओं मे तानियता का कारण Reason for ductility in metals
धातुओं मे तानियता का कारण Reason for ductility in metals

३) भंगूर (Brittle): अधातु गुण क्योंकि उनमे, संयोजक एलेक्ट्रॉन्स से अणु, घनिष्ठ एवं दिशात्मक सहसंयोजक बंधन मे होते है, और मुक्त एलेक्ट्रॉन्स नही होते जो बल लगने पर अणुओं मे परस्पर विस्थापन/सरकन को संभाल सकें, इसीलिए वे टूटते हैं.

Non-metallic property as in them, atoms are held by the valence electrons forming strong directional covalent bonds, and as there are no free electrons to support the displacement/sliding of atoms, they break when force is applied.

४) क्षारीय ऑक्साइड (Alkaline oxide): धात्विक गुण क्योंकि धातु पानी मे गलने पर एलेक्ट्रॉन्स को त्याग करते हैं और OH बन जाता है.

Na2O + H2O –> 2 NaOH –> 2 Na+ + 2 OH

Property of metal oxide as they dissolve in water and give away electrons so that OHgets formed.

Na2O + H2O –> 2 NaOH –> 2 Na+ + 2 OH– 

५) अम्लीय ऑक्साइड (Acidic Oxide): अधात्विक ऑक्साइड का गुण क्योंकि वे एल्कट्रोंस को संग्रह करके H+ छोड़ देते हैं.

CO2 + H2O –> H2CO3 –> 2H+ + CO32-

Property of non-metal oxide to as they try take electrons when dissolved in water and give away H+.

CO2 + H2O –> H2CO3 –> 2H+ + CO32-

) एनोड पर मुक्त होनेवाला (Liberates in Anode): अधातुओं का गुण क्योंकि वे विद्युत-अपघट्य विलयन मे ऋुनायन (-) के रूप मे होते हैं और

धनायन (+) एनोड की ओर आकर्षित होते हैं और उनका आक्सिकरण होता है.

2Na+ + 2Cl –> 2Na (कॅतोड) + Cl2 (एनोड)

Property of non-metal as they are in the form of anions (-) in the electrolytic solution and migrate towards positively charged anode (+) to undergo oxidation. For eg: 2Na+ (aq)+ 2Cl (aq) –> 2Na (Cathode) + Cl2 (Anode)

) कॅतोड पर मुक्त होने वाला (Liberates in Cathode): धातुओं का गुण क्योंकि वे विद्युत-अपघट्य विलयन मे घनायन (+) के रूप मे होते हैं और ऋण (-) कॅतोड की ओर आकर्षित होते हैं और उनका न्यूनीकरण होता है.

2Na+ + 2Cl –> 2Na (कॅतोड) + Cl2 (एनोड)

Property of metals as they form cations (+) in the electrolytic solution and thus migrate towards negatively charged cathode (-) to undergo reduction.

Eg. 2Na+ (aq)+ 2Cl (aq) –> 2Na (Cathode) + Cl2 (Anode)

Electrolysis (विद्युतपघटन)
Electrolysis (विद्युतपघटन)

८) १, २, ३ संयोजक एलेक्ट्रान ( 1,2 or 3 valence electrons): धात्विक गुण जहाँ वे १, २, या ३ संयोजक एलेक्ट्रॉन्स को दे देते हैं.

उनकी आक्सिकरण अवस्था धनात्मक होती है. (+1, +2 & +3)
Property of metals as 1,2 and 3 valence electrons are easy to give away. Their oxidation state can be positive (+1, +2 and +3)

11sodium_card12magnesium_card 13aluminium_card

 

९) ५, ६, ७ संयोजक एलेक्ट्रान ( 5,6 or 7 valence electrons): अधात्विक गुण क्योंकि वे एलेक्ट्रान ग्रहण करके संयोजक कक्षा को पूर्ण (कुल 8 एलेक्ट्रॉन्स) करना चाहते हैं. उनकी आक्सिकरण अवस्था ऋणात्मक होती है. (-1, -2 & -3)

Property of non-metal as they try to gain electrons to have complete octet (8) in valence shell. Their oxidation state can be negative (-1, -2 & -3).

 7nitrogen_card8oxygen_card9fluorine_card 

प्र ३) निम्न रूप मे पाए जानेवाले धातुओं के नाम लिखो (Write names of metals found in the following form)

उ १) सल्फायड (Sulfide): निकल Nickel (NiS) & तांबा Copper (CuS)

उ २) कार्नबनेट (Carbonate): कॅल्षियम Calcium (CaCO3) & मॅग्नीज़ियम Magnesium (MgCO3)

उ ३) ऑक्साइड (Oxide): अल्यूमिनियमAluminium (Al2O3) & लोहा Iron (Fe2O3)

 

प्र ४) निम्न को स्पष्ट करो (Define the following)

उ १) खनीज (Mineral): खनीज एक प्राकृतिक रूप मे पाए जाने वाली अकरबॉनिक, ख़ासकर धातुओं के ठोस यौगिक है या अनेक योगिकों का मिश्रण है जिनके निश्चित रसायनिक और परमाण्विक संरचना है.

A mineral is a naturally occurring, inorganic solid, especially containing metallic compounds or mixture of it in a definite chemical composition range, and an ordered atomic arrangement.

उ २) मृदाअशुध्धि (Gangue):  अयस्क मे धातु यौगिक के साथ कुछ अशुद्धियाँ करीब रूप से जुड़ी हुई होती हैं. उन अशुद्धियों को मृदाअशुध्धि कहते हैं.

In an ore, some impurities are closely associated with the metal compounds. Those impurities are known as gangue.

उ ३) अयस्क (Ore): जिन खनीजों से धातुओं का निष्कर्षण आर्थिक रूप से लाभदायक हो सकता है उसे अयस्क कहते हैं.

Those minerals from which extraction of a metal or product is commercially profitable are known as ores.

Image result for ores images

(Source: http://www.rocksmineralscollections.com/metallic-ores.php )

  उ ४) धातुविज्ञान (Materials Science): धातुविज्ञान विज्ञान का ही एक शाखा है जिसमे पधर्तों के संबंधी उनके शोधन, संश्लेषण, प्रसंस्करण, संरूपण, गुणधर्म और प्रदर्शन के खोज और परीक्षण होते हैं,जिनका कोई अभियांत्रिकी उपयोग होता है. जो गुण की हमे दिलचस्पी है वे मशीनी, विद्युत-चुंबकीय, प्रकाशीय आदि हो सकते है और उनका उपयोग एलेक्ट्रॉनिक्स, संचार, औषधि, यातायात, उत्पादन, निर्माण, मनोरंजन, उर्जा, या प्राकृतिक संरक्षण में हो सकता है.

Materials Science involves the study of the relationships between the synthesis, processing, structure, properties, and performance of materials that enable an engineering function. The properties of interest can be mechanical, electrical, magnetic or optical; the engineering function can impact industries involved in electronics, communications, medicine, transportation, manufacturing, recreation, energy, and the environment conservation.

( Source: https://www.youtube.com/watch?v=JZ9BkoLWdlg– Advanced Metallic Systems CDT)

  उ ५) भंजन (Roasting): भंजन एक उष्ण प्रसारित गैस-ठोस अभिक्रिया है, जिनमे आक्सिकरण, अपघटन, क्लोरिनेशन, सलफेशन या उष्म-जलीय विश्लेषण हो सकता है. भंजन मे अयस्क का गर्म हवा के साथ अभिक्रिया होता है. ये सलफ़ैड अयस्कों पर किया जाता है जिससे वो ऑक्साइड मे परिवर्तन होते हैं और सलफर डाइयाक्साइड गैस निकलता है. तांबे और जसते के सलफ़ैड अयस्कों का भंजन होता है. उदाहरण ( Cu2S + O2 → 2 Cu + SO2  ) & ( 2 ZnS + 3 O2 → 2 ZnO + 2 SO2 )

Roasting consists of thermal gas–solid reactions, which can include oxidation, reduction, chlorination, sulfation and pyrohydrolysis. In roasting, the ore or ore concentrate is treated with very hot air. This process is generally applied to sulfide minerals. During roasting, the sulfide is converted to an oxide, and sulfur is released as sulfur dioxide, a gas. For the ores Cu2S (chalcocite) and ZnS (sphalerite), balanced equations for the roasting are:

( Cu2S + O2 → 2 Cu + SO2  ) & ( 2 ZnS + 3 O2 → 2 ZnO + 2 SO2 )

प्र ५) वैज्ञानिक कारण लिखो (Give scientific reason)

१) सोडियम को हमेशा मिट्टी के तेल मे रखते हैं. Sodium is kept in kerosene oil.

१) सोडियम हवे मे ऑक्सिजन के साथ सोडियम ऑक्साइड बन जाता है और अगर पानी लग जाए तो जोरों के साथ सोडियम हाइडरॉक्साइड बन जाता है. इसीलिए उसे केरोसिन मे रखते हैं.

Sodium reacts with oxygen in air to form sodium oxide. It can also react with water vigorously to form   sodium hydroxide. To prevent its loss it is kept in kerosene to protect it from moisture and air.

२) सोना तथा चाँदी का उपयोग गहने बनाने के लिए करते हैं. Gold and silver is used for making jewellery.

उ २) सोना और चाँदी अत्याधिक अक्रियाशील धातु हैं जिनका सामान्य वातावरण मे रसायनिक अभिक्रिया जैसे आक्सिकरण या क्षरण नही होता, जिससे वे अपनी चमक नही खोते. उनकी तन्यता भी अच्छी है जिससे उनमे पेचीदे रूप-आकार दे सकते हैं.

Gold and silver are among least reactive metals, i.e. they do not react to get oxidized or rusted under normal conditions and does not lose its shine, and they also possess high ductility that helps make intricate designs.

३) पानी से क्रिया होनेपर कॅल्षियम पानी मे तैरता है. Calcium floats on water when it reacts.

उ ३) कॅल्षियम और पानी के अभिक्रिया से कॅल्षियम हाइडरॉक्साइड और हाइड्रोजन गैस बनते हैं. जब हाइड्रोजन गैस के बुलबुले ठोस कॅल्षियम के बीच फस जाते हैं, उनका कुल घनत्व कम होता है और वो पानी के उपर तैरता हैं.

Ca + 2H2O –> Ca(OH)2 + H2 (g)

Reaction between calcium and water yields calcium hydroxide and hydrogen gas. As the hydrogen gas gets trapped in the calcium matrix, their net density is low so it floats over water.

Ca + 2H2O –> Ca(OH)2 + H2 (g)

४) आयनिक यौगिकों का द्रावणांक तथा क्वथनांक उच्च होता है. Ionic compounds have high melting and boiling points.

उ ४) आयनिक यौगिकों मे धनायन और ऋणायन के बीच बलशील विद्युत आकर्षण होता है जिसे आयनिक बंधन कहते हैं. उन्हे तोड़ने के लिए उच्च ऊर्जा की ज़रूरत होती है, इसीलिए उनके द्रावणांक और क्वथनांक अधिक होता है.

Ionic compounds have very strong bonding between them due to electrostatic force of attraction between cation and anion. Thus high energy is needed to break the bonds, so they have high melting and boiling points.

Related image

( Source: http://vbteachingandlearning.blogspot.in/2015/11/types-of-solids.html )

५) काले पड़े हुए तांबे के बर्तन सॉफ करने के लिए नींबू या ईमली का उप्यूग होता है. Blackened copper utensils are cleaned by lemon or tamarind.

उ ५) तांबा वातावरण मे ऑक्सिजन के संपर्क से काले रंग का ऑक्साइड बनता है. नींबू मे सिटरिक अम्ल और ईमली मे टर्तरिक अम्ल होते हैं. दोनों मे कारबॉक्सिल अम्ल कार्यात्मक समूह हैं जो कॉपर ऑक्साइड को गलाकार नीचे के शुद्ध कॉपर को फिर से प्रत्यक्ष करते हैं.

CuO + 2RCOOH –> Cu(RCOO)2 + H2O

Blackened copper is basically copper oxide formed with reaction with air. Lemon and tamarind have citric and tartaric acid respectively. Both have carboxylic acid functional group which dissolves the copper oxide and reveals the underlying shining copper.

CuO + 2RCOOH –> Cu(RCOO)2 + H2O

 प्र ६) सुधाने तांबे का सिक्का सिल्वर नाइट्रेट के विलयन मे डुबया. थोड़े समय पश्‍चात उसे वह सिक्का चमकता हुआ दिखा.

क्यों ? संतुलित रसायनिक समीकरण लिखो.

Rusted copper coin is put in silver nitrate solution. After sometime it started to shine. Write balanced equation to describe the reaction.

६) तांबा चाँदी से ज़्यादा क्रियाशील धातु होने के कारण, सिल्वर नाइट्रेट मे तांबे के सिक्के को डुबाने पर विस्थापन अभिक्रिया से विलयन मे कॉपर नाइट्रेट बनता है और चाँदी का सिक्के के उपर अवक्षेपण होता है.

Cu(s) + 2 AgNO3(aq)  –> Cu(NO3)2 (aq)  +  2 Ag (s)

Copper being more reactive that silver displaces it to dissolve into the solution forming copper nitrate and silver is precipitated out on the coin.

Cu(s) + 2 AgNO3(aq)  –> Cu(NO3)2 (aq)  +  2 Ag (s)

(Youtube source: https://www.youtube.com/watch?v=P5QlfMRvvF8 )

प्र ७)‘A’धातु का एलेक्ट्रॉनिक समीकरण 2,8,1 है. ‘B’ धातु का एलेक्ट्रॉनिक समीकरण 2,8,8,2 है. कौनसी धातु अधिक क्रियाशील है ? उसे पहचानो. उसकी तनु हाइडरोक्लॉरिक अम्ल के साथ होने वाली अभिक्रिया लिखो.

‘A’ metal has electronic configuration 2,8,1. ‘B’ metal has electronic configuration 2,8,8,2. Which is more reactive? Write its reaction with dilute hydrochloric acid.

उ ७) ‘A’ धातु, जिसमे कुल ११ (२+८+१) एलेक्ट्रान और प्रोटॉन है वो सोडियम है और ‘B’ धातु जिसमे कुल २० (२+८+८+२) एलेक्ट्रान है वो कॅल्षियम है. सोडियम कॅल्षियम से ज़्यादा क्रियाशील है. सोडियम HCl के साथ अभिक्रिया से NaCl लवन और H2 हाइड्रोजन गैस बनता है. 2Na (s) + 2HCl (aq) –> 2NaCl (aq) + H2(g)

‘A’ element that has total 11 (2+8+1) protons and electrons is Sodium and ‘B’ element that has total 20 (2+8+8+2) protons and electrons is Calcium. Sodium is more reactive than Calcium. It reacts with HCl to give NaCl and H2 gas. 2Na (s) + 2HCl (aq) –> 2NaCl (aq) + H2(g)

प्र ८) जस्ते के सल्फ़ाईड से जस्ता प्राप्त करने दो रसायनिक अभिक्रिया होती है. A तथा B के लिए समीकरण लिखो.

Extraction of Zinc from Sulfide involves 2 chemical reactions. Give the products of the reactions.

) ZnS (भंजन/Roasting): 2 ZnS + 3 O2 –> 2 ZnO + 2 SO2

ZnO (अवकरण/Reduction): 2 ZnO + C 2 Zn + CO2

प्र ९) निम्न विधानों के रसायनिक समीकरण मे रूपांतरण करके उसे संतुलित करो.

Give chemical reactions which occur under following conditions.

१) अल्यूमिनियम पर से बाश्प प्रवाहित की गई. Water vapour is passed over Aluminium.  2 Al + 3H2O –> Al2O3 + 3H2

२) तांबे का उसके सल्फायड धातु से निष्कर्षण.Extraction of copper from its sulphide. CuS + O2 –> Cu + SO2

३) उष्मा के प्रभाव (Thermit) अभिक्रिया.Thermit reaction. Fe2O3 + 2 Al → 2 Fe + Al2O3

४) अल्यूमिनियम ऑक्साइड, जलीय सोडियम हाइडरॉक्साइड के विलयन मे घुलने से क्या होगा ?

What happens when aluminium oxide reacts with sodium hydroxide.

Al2O3 + 2NaOH –> 2NaAlO2 + H2O

प्र १०) अल्यूमिनियम के निष्कर्षण मे In Aluminium purification

१) बॉक्साइट का सांदीकरण करने के पद्धति का नाम लिखो. Write the name of the method for purification of bauxite.

)  बॉक्साइट का सांदीकरण करने के पद्धति को बेयर्स प्रोसेस कहते हैं. Purification of bauxite is done by Bayer’s Process.

२) अल्यूमिनियम का विद्युत अपघटनी क्षरण होते समय कॅतोड पर होने वाली अभिक्रिया लिखो.

On electrolytic reduction of aluminium, write the reaction that happens in cathode.

)  Al+3 + 3 e → Al

३) क्रायॉलैइट के कार्य तथा सूत्र लिखो. Write the formula and function of cryolite.

) क्रायॉलैइट का सूत्र Na3AlF6. कार्य : क्रायॉलैइट अल्यूमिनियम ऑक्साइड को गलाकार विधयुत अपघटन से शुद्ध अल्यूमिनियम प्राप्त करने मे उपयोग होता है.

Cryolite formula: Na3AlF6, Function: Used to dissolve aluminium oxide for electrolytic extraction of aluminium.

४) अल्यूमिनियम हाइडरॉक्साइड पर उष्मा के प्रभाव का संतुलित रसायनिक समीकरण लिखिए.

Write balanced equation for the effect of heat on aluminium hydroxide.

) 2 Al(OH)3 –> Al2O3 + 3H2O

५) अल्यूमिनियम निष्कर्षण की नामांकित आकृति बनाओ. Draw diagram of aluminium extraction.

अल्यूमिनियम निष्कर्षण Aluminium Extraction
अल्यूमिनियम निष्कर्षण Aluminium Extraction

 

६) समय समय पर एनोड बदलना क्यों आवश्यक है ? Why should anode be changed time to time?

) एनोड मे ग्रॅफाइट एलेक्ट्रोड का ऑक्सिजन से अभिक्रिया होकर कार्बन डाइयाक्साइड गॅस बनके ख़तम होते जाता है इसीलिए उनको समय समय पर बदलना ज़रूरी है.

C + O2  –> CO2 (g)

In anode graphite electrode gets consumed by oxygen and goes out as CO2 gas. So it needs to be regularly changed.

C + O2  –>CO2 (g)

७) अल्यूमिनियम के यौगिक को सांद्र कॉस्टिक सोडे के साथ गर्म करने पर क्या होगा? संतुलित रासायनिक समीकरण लिखो.

What happens when aluminium hydroxide is heated with concentrated caustic soda? Write balanced equation.

) Al(OH)3 + NaOH –> NaAl(OH)4 –> NaAlO2 + 2H2O

 

प्र ११) समिश्र मे जंग लगने सा रोकने की दो पद्धतियाँ लिखो. Describe two methods for preventing corrosion of alloys.

११) किसी समिश्र को जंग लगने से रोखने के लिए दो उपाय:

१) गॅल्वनाइज़िंग (Galvanizing) : इसमे लोहा या इस्पात के उपर जसते की परत चड़ाया जाता है, उदाहर्न सुईं, कीलों मे.

२) विद्युत आवरण (Electro-plating): इसमे सोने या चाँदी जैसे क्षरण-मुक्त धातु को विद्युत-अपघटन से छड़ाया जाता है, जैसे गहनों मे.

Corrosion of alloys can be prevented by:

1) Galvanizing: In this method, iron or steel is coated with thin layer of Zinc. Eg. Nails and pins

(Source: https://www.youtube.com/watch?v=kwCyq06aatA – American galvanic association)

2) Electroplating: One layer of noble metal is electro-deposited over the alloy eg. Silver and gold plated jewellery

(Source: https://www.youtube.com/watch?v=LbpwocW8Rgw  – Learning hub academy)

प्र १२) समिश्र अर्थर्थ क्या ? रसायनिक घटकों के साथ दो उदाहरण लिखो.

What are alloys? Give 2 examples with chemical composition.

११) दो या अधिक धातु अथवा एक धातु और एक अधातु इनके निश्चित प्रमाण मे मिश्रण को सम्मिश्रण कहते हैं. जैसे स्टेनलेस स्टील (लोहा, निकल 8%, क्रोमियम 12%) और पीतल (तांबा और जस्ता)

Alloy is a mixture of two or more metals in a range of proportion. Eg. Stainless steel (Iron, Nickel 8% and Chromium 12%) and Brass (Copper and Zinc)

प्र १३) निम्न धातुओं को उनके अभिक्रीयाशीलता के उतरते क्रम मे लिखो. Write in decreasing order of metal reactivity

Cu, Mg, Fe, Na, Ca, Zn

१३) Na>Ca>Mg>Zn>Fe>Cu

प्र १४) धातु तथा आधातु मे एलेकट्रोनों का लेनदेन होकर आयनिक यौगिक कैसे बनते हैं, स्पष्ट करो. धातु Mg तथा Cl आधातु इनकी सहायता से उत्तर स्पष्ट करो. Describe how metals and non metals react with exchange of electrons with the help of Mg and Cl as example.

उ १४) धातु अपने संयोजक एलेक्ट्रॉन्स को त्याग कर अपने आवर्त से एक आवर्त पूर्व मे निष्क्रिय गैस का एलेक्ट्रॉनिक संरूपण को प्राप्त करते हैं और घनायन (Cation Mm+) बनते हैं, लेकिन आधातु एलेक्ट्रॉन्स को ग्रहण करके अपने ही आवर्त मे आगे जो निष्क्रिय गैस की आवस्था है, उसे प्राप्त करके श्रवानायन (Anion Xn-) बनते हैं. जब वे आयनिक योगिक बनते हैं तो उस अनुपात मे बनते हैं जिससे योगिक का कुल चार्ज शून्य है, यानी कुल एलेक्ट्रान जो धातु से लिया गया वो अधातु से ग्रहण किया गया. उदाहरण

Mg (2,8,2) –> Mg2+ (2,8) + 2 e

Cl (2,8,7) + e –> Cl (2,8,8)

Metals give away their valence electrons to attain inert gas configuration of the previous period and become a cation Mm+, whereas non-metals gain electrons to attain inert gas configuration of the same period and become and anion Xn-, where ‘m+’ and ‘n-‘ are their oxidation states respectively. When they form ionic compound, they form in such ratio that total charge of the ionic compound is zero, i.e. net electron taken from metals is balanced by electrons gained by non-metals. For example

Mg (2,8,2) –> Mg2+ (2,8) + 2 e

Cl (2,8,7) + e- –> Cl (2,8,8) (but since net charge should be balanced two Cl atoms react to give) 2Cl –> 2Cl + 2e

Net reaction: Mg2+ + 2Cl –> MgCl2

 

प्र १५) ‘X’ तत्व की ऑक्सिजन से अभिक्रिया होकर X2O यह ऑक्साइड बनता है. यह ऑक्साइड पानी से घुलता है तथा इसमे लाल लिटमस नीला होता है. X तत्व धातु है या आधातु एक उदाहरण के साथ स्पष्ट करो.

‘X’ element forms X2O oxide with oxygen. When oxide dissolves in water, it changes red litmus blue. Is ‘X’ a metal or non-metal, explain with example.

१५) X2O यौगिक के बनने से, ये जानते हुए की ऑक्सिजन (O) की आक्सिकरण अवस्था -2 है, अतः X की आक्सिकरण अवस्था +1 है. X2O और पानी की अभिक्रिया से जो विलयन है वो लाल लिटमस को नीला कर देता है, यानी X2O एक भस्मिक ऑक्साइड है. इन रसायनिक गुणधर्मों से हमे यह साबित होता है की X एक क्षारीय धातु है. उदाहरण सोडियम (Na):

4 Na + O2 –> 2Na2O, 2Na2O + H2O –> 2NaOH

Since X2O is formed, we know that oxidation state of Oxygen is -2, therefore oxidation state of X is +1. Since X2O reacts with water to change red litmus blue, it must be basic in nature. From the above chemical properties of X, we can conclude that X is a metal from group 1, i.e. an alkali metal.

Eg.  4 Na + O2 –> 2Na2O,    2Na2O + H2O –> 2NaOH

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

स्वाध्याय – 3 अम्ल भस्म का रसायन Self learn-3 Chemistry of acids and bases

इस लेखन मे 10 वी कक्षा का 3rd अध्याय ‘अम्ल भस्म का रसायन’ के स्वाध्याय के उत्तर लिखे गये हैं. संधर्भ के लिए पाठ पुस्तक का भी उपयोग करें.

In  this post for 10th standard students, 3rd chapter titled ‘Magic of chemical reactions’ is being covered. Please use the text book for reference.

वीडियो लेक्चर से सीखें  Learn from video lectures:

Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=ej_8DABEVMQ

Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=wqRdMeKYX9c

Part 3: https://www.youtube.com/watch?v=Q2WvkHRCiSU

एक बार खुद से प्रश्नों के उत्तर लिखने की कोशिश करें. उसके बाद उत्तर के लिए नीचे स्क्रोल करें.

Please try answering the questions below by yourself first, then scroll down for the answers.

_____________________________________________________________________________________________________________

प्रश्न Questions

_____________________________________________________________________________________________________________

प्र १) रिक्त स्थानों की पूर्ति करो

१. बहुत से अम्लीय पधार्तों का स्वाद ___________ होता है.(Many acidic substances have ____________ taste.)

२. फिनप्थलीन ____________ प्रकार का सूचक है. (Phenolphthalein is a __________ kind of indicator.)

३. भास्मिक पधार्तों की शक्ति को _________ द्वारा प्रदर्शित करते हैं.

Strength of basic substances is shown in ________ scale.

४. pHमापक की सीमा ___________ से __________ के बीच होती है.

pH scale is measured between ________ and __________.

५. अम्ल और भस्म एक दूसरे को उदासीन कर __________ और _________ बनाते हैं.

  1. Acid and base neutralize each other to become _________ and ___________.

६. सोडियम या पोटाशियम लवन के उच्च वसीय अम्ल  को ________ कहते हैं.

Sodium and potassium salt of carboxylic acid is known as ______________.

७. FeSO4.7 H2O में H2O ____________ प्रदर्शित करता है. In FeSO4.7H2O, H2O is _____________________.

८. 10 % NaClको ___________ कहते हैं. 10% NaCl is known as __________.

 

प्र २) नीचे लिखे गये पधर्तों मे कौँसे अम्ल हैं बताइए (Tell which acid is found in the list given below)

ईमली (Tamarind), मक्खन (Butter), वलेरूम पौधे का जड़ (Valerium Root), नींबू (Lime), दूध (Milk), संतरा (Orange), लाल चींटी (Red Ant), मधुमक्खी (Honey-bee)

 

प्र ३) संक्षेप में टिप्पणी लिखो ( Write short answers)

१. सूचक (योग्य उदाहरण के साथ) (Indicator, with example)

२. pHमापक (आकृति के साथ) (pH scale, with diagram)

३. केलासन जल (योग्य उदाहरण द्वारा) (Water of crystallization)

 

प्र ४ निम्नलिखित के उत्तर लिखिए. (Write answers to the following)

१. धातुकर्बोनटेस अम्ल के साथ कैसे क्रिया करता है ? How metal carbonates react with acids?

२. हाइड्रोनियम आयन (Hydronium) को उदाहरण द्वारा स्पष्ट कीजिए. Explain Hydronium ion with example.

३. वैसविक सूचक से क्या समझते ही ? सोडियम हाइडरॉक्साइड की Mg(OH)2 से क्रिया होती है यदि नही तो क्यों ?

What do you understand by universal indicator? Will sodium hydroxide react with magnesium hydroxide? Why or why not?

४. खाने के सोडे का उपयोग बताइए. What are the uses of baking soda?

प्र ५ अम्लों और भास्मों की परस्पर कैसी अभिक्रिया होती है ? हम क्रिया का नाम क्या है ? इस प्रतिक्रिया के फलस्वरूप उत्पाद क्या प्राप्त होता है? What happens in a reaction between acid and base? What is the name of the reaction? What are the products of such reaction?

_____________________________________________________________________________________________________________

उत्तर Answers 

_____________________________________________________________________________________________________________

१. बहुत से अम्लीय पधार्तों का स्वाद खट्टा होता है. Many acidic substances have sour taste.

२. फिनप्थलीन संश्लेषित प्रकार का सूचक है. Phenolphthalein is a synthetic kind of indicator.  

३. भास्मिक पधार्तों की शक्ति को pOH द्वारा प्रदर्शित करते हैं. Strength of basic substances is shown in pOH scale.

४. pH मापक की सीमा 0 से 14 के बीच होती है.pH scale is measured between 0 and 14.

५. अम्ल और भस्म एक दूसरे को उदासीन कर लवण और पानी बनाते हैं. Acid and base neutralize each other to become salt and water.

६. सोडियम या पोटाशियम लवन के उच्च वसीय अम्ल को सबून कहते हैं. Sodium and potassium salt of carboxylic acid is known as soap.

Image result for soap making chemical reaction

(http://www.ebotaniq.com.au/images/eBotaniqPics/product/product%20pictures/molecules/triglyceride.jpg)

७. FeSO4.7H2O में H2O केलासन जल प्रदर्शित करता है. In FeSO4.7H2O, H2O is water of crystallization.

८. 10 % NaCl को ब्राइन कहते हैं. 10% NaCl is known as brine.

प्र २) नीचे लिखे गये पधर्तों मे कौँसे अम्ल हैं बताइए (Tell which acid is found in the list given below)

carboxylic-acids
प्र ३
) संक्षेप में टिप्पणी लिखो ( Write short answers)

१. सूचक (Indicator): कुछ संश्लेषित और रसायनिक पदार्थों के द्वारा यौगिक के अम्लीय और भास्मिक गुण को प्रदर्शित करते हैं, इन्हे सूचक कहते हैं. उदाहरण लिटमस पेपर मे लैकेन-सुकायोद भिद नामक पौधे से प्राप्त हुआ योगिक अम्ल मे नीले से लाल और भस्म मे लाल से नीला हो जाता है. प्राकृतिक पधर्थ जैसे लाल गुलाब, हल्दी & चुकंदर भी अम्ल-भस्म का सूचक के रूप मे उपयोग होता है.

Some chemical and synthetic compounds can differentiate between an  acidic and basic solution, they are known as indicators. For example, Litmus paper containing compound from Thyllophyta changes color from blue to red in acid and red to blue in base. Natural compounds in red rose, turmeric & beetroot can also be pH indicators.

Turmeric is a versatile indicator, can be used for artistic expressions too!

२. pHमापक (pH scale): pH याने पोटेन्ज़ स्केल मापक के सहायाता से विलयान के हाइड्रोजन आयनो (H+) की सान्द्र्ता को माप सकते हैं. यह मापक ० से १४ तक होता है, ० से ७ के बीच अम्ल होते हैं और ७ से १४ के बीच भस्म. pH 0 तीव्र अम्ल है और उसके pH 7 तक अम्ल कमज़ोर होता जाता है यानी H+ देने की क्षमता कम होती जाती है. pH 14 के पास तीव्र भस्म है, और जैसे हम pH 7 की ओर कम करते आते हैं, भस्म के तीव्रता भी कम होती जाती है, यानी उसकी OH- देने की क्षमता कम होती जाती है. शुद्ध पानी का pH 7 होता है, यानी वो उदासीन है.

pH or potenz scale is used to measure the strength of H+or its concentration in the solution. pH scale ranges from 0 to 14, 0 to 7 are acids & 7 to 14 are bases. pH 0  acids are strong acids, and as we increase towards pH7 their strength decreases, i.e. their ability to release H+ ions decreases. pH14 are strong bases, and as we decrease pH to 7 their strength decrease, i.e. their ability to release OH- ions decreases. Water is neutral at pH 7.ph-scale-full

 

३. केलासन जल (Water of crystallization):केलासन जल उस जल के उन अणुओं को कहते हैं जो किसी लवन के साथ एक स्थिर अनुपात मे जुड़कर उसके क्रिस्टल की संरचना मे आंतरिक रूप से भाग लेता है. उदाहरण निर्जल कॉपर सलफेट मे पानी डालने पर नीले रंग का सजल कॉपर सलफेट की रचना होती है, जिसका सूत्र CuSO4.5H2O है, यानी हर CuSO4लवण के साथ 5H2O जुड़ता है.

Water of crystallization refers to those molecules of water which bonds with the salt crystal. They bond in fixed ratio to the salt crystal and form an essential part within the crystal structure. For example, on anhydrous copper sulfate CuSO4, when water is added, it becomes blue coloured hydrated copper sulfate, CuSO4.5H2O, i.e. 5 molecules of H2O gets attached to one molecule of CuSO4 to make the crystal.

cuso4

प्र ४ निम्नलिखित के उत्तर लिखिए. (Write answers to the following)

१. धातुकर्बोनटेस अम्ल के साथ कैसे क्रिया करता है ? How metal carbonates react with acids?

धातु कारबनेट जब अम्ल से अभिक्रिया करती है तब लवण, पानी और साथ मे कार्बन डाइयाक्साइड गैस भी उत्पन्न होता है.

Na2CO3 + 2HCl –> 2NaCl + H2O + CO2 (g)

Metal carbonates react with acids to form salt, H2O and CO2 gas is also liberated.

Na2CO3 + 2HCl –> 2NaCl + H2O + CO2 (g)

२. हाइड्रोनियम आयन (Hydronium) को उदाहरण द्वारा स्पष्ट कीजिए. Explain Hydronium ion with example.

उदासीन पानी मे या अम्ल मे जब प्रोटॉन (H+) का पानी से बंधन होता है, तब हाइड्रोनीयम घनायन (H3O+) बनता है.

2 H2O –> H3O+ + OH     &    HCl + H2O   –>   H3O+ + Cl

In neutral water or in acid, when proton (H+)break and binds with water, hydronium cation (H3O+) is formed.

2 H2O   –>   H3O+ + OH   &    HCl + H2O   –>   H3O+ + Cl

३. वैसविक सूचक से क्या समझते ही ? सोडियम हाइडरॉक्साइड की Mg(OH)2 से क्रिया होती है यदि नही तो क्यों ?

What do you understand by universal indicator? Will sodium hydroxide react with magnesium hydroxide? Why or why not?

वैश्विक सूचक कई विभिन्न pH सूचकों का मिश्रण है जो अम्ल से भस्म के पूरे श्रेणी मे, याने pH 1 से 14 तक, क्रमिक रूप से रंग मे परिवर्तन दर्शाता है, जिससे हम किसी भी विलयन के अम्लीय या भास्मिक गुण का अनुमान लगा सकते हैं.

A universal indicator is a pH indicator composed of a solution of several compounds that exhibits several smooth colour changes over a pH value range from 1 to 14 to indicate the acidity or alkalinity of solutions.

४. खाने के सोडे का उपयोग बताइए. What are the uses of baking soda?

बेकिंग सोडा के कई उपयोग हैं:

१) डोसा, ढोकला, केक आदि को हल्का और छिद्रयुक्त बनाने के लिए.

२) पेट की अम्लीयता कम करने के लिए.

३) CO2 छोड़ने के वजह से आग भुजाने के लिए.

४) और कई प्राकृतिक औषध जैसे हल्दी के साथ त्वचा / केश को सॉफ और स्वस्थ रखने के लिए.

Baking soda is used for:

1) Making dough for cake, dhokla, dosas fluffy and porous.

2) Since it is a base, it can be taken to neutralize stomach acidity.

3) To extinguish fire as it generates CO2.

4) It can also be used with other natural substances like turmeric for skin and hair cleaning.

प्र ५ अम्लों और भास्मों की परस्पर कैसी अभिक्रिया होती है ? हम क्रिया का नाम क्या है ? इस प्रतिक्रिया के फलस्वरूप उत्पाद क्या प्राप्त होता है? What happens in a reaction between acid and base? What is the name of the reaction? What are the products of such reaction?

अम्ल और भस्म एक दूसरे को उदासीन कर लवण और पानी बनाते हैं. इस अभिक्रिया को उदासीनिकरण कहते हैं.

NaOH + HCl –> NaCl + H2O

Acid and base neutralize each other to become salt and water. The reaction is known as neutralization.

NaOH + HCl –> NaCl + H2O

neutralization

_____________________________________________________________________________________________________________

कोई संदेह या सवाल के लिए मैल करें (For doubts or questions mail to) : nikhilesh@asanvigyan.in

 

 

 

 

 

 

 

स्वाध्याय – 2 रसायनिक अभिक्रियाओं के जादू (रसायन) Self learn -2 Magic of Chemical Reactions

स्वाध्याय – 2 रसायनिक अभिक्रियाओं के जादू (रसायन) Self Learn 2 Magic of chemical reactions

इस लेखन मे 10 वी कक्षा का 2nd अध्याय ‘रसायनिक अभिक्रियाओं के जादू’ के स्वाध्याय के उत्तर लिखे गये हैं. संधर्भ के लिए पाठ पुस्तक का भी उपयोग करें.

In  this post, 2nd chapter ‘Magic of chemical reactions’ is being covered. Please use the text book for reference.

 

वीडियो लेक्चर से सीखें  Learn from video lectures:

Part-1 ( https://www.youtube.com/watch?v=sCdpomq6dmY&t=7s )

Part 2: ( https://www.youtube.com/watch?v=m0x4O8k_HG4&t=11s )

Part 3: ( https://www.youtube.com/watch?v=U6ShPbxTE8I&t=56s )

 

एक बार खुद से प्रश्नों के उत्तर लिखने की कोशिश करें. उसके बाद उत्तर के लिए नीचे स्क्रोल करें.

Please try answering the questions below by yourself first, then scroll down for the answers.

_____________________________________________________________________________________________________________

प्रश्न Questions

_____________________________________________________________________________________________________________

प्र १ रिक्त स्थान की पूर्ति करो (Fill in the blanks):

१) POP (Plaster of Paris) का रसायनिक सूत्र _____________ है.

1) Chemical formula of POP (Plaster of Paris) is _____________.

२) जिस अभिक्रिया में H2 (g) मुक्त होता है, उस अभिक्रिया को ___________ कहते हैं.

2) The reaction, in which H2 gas is liberated, is known as _______________.

३) ___________ पदार्थ के उपयोग में क्षरण रोका जा सकता है.

3) ____________ substance is used for preventing corrosion.

४) जब अम्ल और भस्म की परस्पर अभिक्रिया होती है तब _____________ और _____________ बनता है.

4) When acid and base react with each other, then ______________ and ___________ are formed.

५) जिस रसायनिक अभिक्रिया में उष्मा मुक्त होती है उस अभिक्रिया को ___________ कहते हैं.

5) Chemical reactions in which heat is released are known as ________________________.

प्र २ निम्नलिखित तालिका मे उचित जोड़ियाँ मिलाओ (Match the following):

Fe + S    NaCl + H2O     आक्सिकरण (Oxidation)  
CuSO4 + Zn     2CuO उदासीनीकरण (Reduction)  
2Cu + O2 ZnSO4 + Cu      विस्थापन (Displacement)  
HCl + NaOH FeS संयोग (Combination)  

 

प्र ३ निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लिखो (Answer the following)

१) रसायनिक समीकरण का क्या महत्त्व है ?

1) What is the importance of chemical equation?

२) जब हाइड्रोजन सॅलफ़ैड H2Sगैस कॅड्मियम क्लॉराइड CdCl2के विलयन मे प्रवाहित होता है, अभिक्रिया के प्रकार बताइए.

2) What type of reaction occurs when Hydrogen Sulphide gas H2S is made to pass over Cadmium Chloride CdCl2.

३) रिडॉक्स अभिक्रिया यह संकल्पना उदाहरणसहित स्पष्ट करो.

3) Explain redox reaction with an example.

४) क्षरण से क्या तात्पर्य है ? सोने के आभूषण का क्षरण होता है क्या ? अगर नही तो क्यों ?

4) What do you mean by corrosion? Does gold gets corroded? If not, then why ?

प्र ४ वैज्ञानिक कारण लिखो. (Give scientific reason)

१) दरवाजे और खिड़कियों की ज़ालियों को इस्तेमाल से पहले रंग देते हैं.

1) Doors and windows are painted before use.

२) रसायनिक अभिक्रिया लिखते समय अभिकारी और परिणामी पदार्थों की भौतिक अवस्था दर्शाते हैं.

2) When we write chemical reactions, we also mention the physical states of reactants and products.

३) पोटाशियम फेरोसाइयनाइड को गहरे रंग की बोतल मे सूर्यप्रकाश से दूर रखा जाता है.

3) Potassium ferrocyanide is kept in dark bottle away from sunlight.

४) लोहे की वस्तुओं को जंग लगता है, परंतु लोहे से बनाई हुई स्टील की वस्तुओं का क्षरण नही होता.

4) Iron utensils get rusted, but steel which is made of iron does not get corroded. Why?

५) लोहे और टिन के डिब्बे में खाद्य तेल अधिक समय तक संग्रहित नही कर सकते.

5) Iron and Tin boxes are not used to keep edible oil for long time. Why?

 

प्र ५ प्राकृतिक वातावरण मे सुबह टहलने पर हम ताज़गी का अनुभव करते हैं, लेकिन यदि हम १० बजने के बाद भीड़ मे टहलने निकले तो ऐसा महसूस नही होता, क्यों ? अपने उत्तर का समर्थन करने के लिए उचित रसायनिक समीकरण लिखो.

Q5) Walking early in the morning in natural environment makes us feel fresh, but if we go out to walk at 10 AM in traffic we don’t feel fresh. Why? Give justification using correct chemical equation.

प्र ६ निम्नलिखित संकल्पना स्पष्ट करो (Explain the following)

१) बदबू (Rancidity)

२) उष्माग्राही अभिक्रिया (Endothermic reaction)

३) रिडॉक्स अभिक्रिया (Redox reaction)

४) उदासीनीकरण (Reduction)

प्र ७ अत्यंत महीन जस्ते (Zn) का चूर्ण लेकर उसकी CuSO4 के साथ अभिक्रिया होने दो. अब इसी अभिक्रिया को थोड़े बड़े आकार के जसते के कण लेकर दोहराओ, इनमे से कौनसी अभिक्रिया तीव्र गति से होगी और क्यों ?

Take ultrafine powder of Zinc and add it to CuSO4 solution for reacting. Repeat the same reaction using a big piece of Zinc. In which case the reaction is faster? Why?

_____________________________________________________________________________________________________________

उत्तर Answers 

_____________________________________________________________________________________________________________

  1. (Fill in the blanks)

१) POP (Plaster of Paris) का रसायनिक सूत्र CaSO4·½H2O है.

1) Chemical formula of POP (Plaster of Paris) is CaSO4·½H2O.

Gypsum + heat => Plaster of Paris + steam (2CaSO4·2H2O + heat –> 2CaSO4·½H2O + 3H2O)

Plaster of Paris is a white powder which is used for the setting of fractured bones in the right position Source: (http://www.funscience.in/study-zone/Chemistry/SomeImportantChemicalCompounds/PlasterOfParis.php )

2) जिस अभिक्रिया में H2 (g) मुक्त होता है, उस अभिक्रिया को विस्थापन कहते हैं. The reaction in which H2 gas is liberated is known as displacement.

Eg. Zn (s) + H2SO4 (aq) –> ZnSO4 (aq) + H2 (g)

Image result for Zn + H2SO4 reaction

(http://www.meritnation.com/ask-answer/question/what-will-happen-if-a-in-place-of-zinc-granules-some-amount/acids-bases-and-salts/5589224)

3) जसते के परत पदार्थ के उपयोग से क्षरण रोका जा सकता है.

Zinc Coating substance is used for preventing corrosion.

Image result for zinc coating galvanization

(Source: https://www.alibaba.com/product-detail/zinc-coating-spray-cold-galvanizing-zinc_60294865554.html)    

Image result for zinc coating galvanization

जस्ता एक परत बना सकता है और आक्सिकरण होकर एनोड बनने से धातु को बचाता है

Zn can act as barrier and also get oxidized itself to protect the metal beneath by acting as anode (Galvanic protection)

(Source: http://www.arknovin.com/uploads/images/galvaniztion.png)

4) जब अम्ल और भस्म की परस्पर अभिक्रिया होती है तब लवण और पानी बनता है.

When acid and base react with each other, then salt and water are formed. HCl + NaOH –> NaCl + H2O

 जिस रसायनिक अभिक्रिया में उष्मा मुक्त होती है उस अभिक्रिया को ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया कहते हैं.

Chemical reactions in which heat is released are known as exothermic reaction.

 

2) निम्नलिखित तालिका मे उचित जोड़ियाँ मिलाओ (Match the following):

Fe + S NaCl + H2O आक्सिकरण (Oxidation) Fe + S  à FeS  संयोग (Combination)
CuSO4 + Zn 2CuO उदासीनीकरण (Neutralization) CuSO4 + Zn à ZnSO4 + Cu   विस्थापन (Displacement)
2Cu + O2 ZnSO4 + Cu विस्थापन (Displacement) 2Cu + O2 à 2CuO   आक्सिकरण (Oxidation)
HCl + NaOH FeS संयोग (Combination) HCl + NaOH à NaCl + H2O  उदासीनीकरण (Neutralization)

प्र ३ निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लिखो (Answer the following)

.१) रसायनिक समीकरण का क्या महत्त्व है ?  What is the importance of chemical equation?

रसायनिक समीकरण के मदद से हम रसायनिक अभिक्रियाओं को सरल और स्पष्ट रूप से समझ सकते हैं. रसायनिक समीकरण से हमे ये जानकारी मिलती है:

१) रसायनिक अभिक्रिया मे भाग लेने वाले सभी अभिकारी और परिणामी पदार्थ और उनके भौतिक आवस्था.

२) किसी अभिक्रिया मे भाग लेने वाले सभी तत्वों / यौगिकों के रासायनिक सूत्र.

३) अभिकारी और परिणामी पदार्थों के संख्या और द्रव्यमान के बीच सापेक्ष संबंध.

४) परिस्थितियों के बारे मे जानकारी जिसमे वह अभिक्रिया हो सकती है जैसे तांपमान, दाब, ऊर्जा, उत्प्रेरक आदि

With the help of chemical equations we can easily and clearly understand chemical reactions. It has information about:

  1. Reactants and products involved in the reaction along with their physical states.
  2. Symbols and formulae of all substances involved in the reaction.
  3. Relative number and masses of reactants and product participating in the reaction.
  4. Conditions under which reaction is possible, eg. Temperature, pressure, catalyst, heat etc.

 

.२) जब हाइड्रोजन सॅलफ़ैड H2S गैस कॅड्मियम क्लॉराइड CdCl2 के विलयन मे प्रवाहित होता है, अभिक्रिया के प्रकार बताइए.

3.2) What type of reaction occurs when Hydrogen Sulphide gas H2S is made to pass over Cadmium Chloride CdCl2.

हाइड्रोजन सलफाईड गैस का कॅड्मियम क्लॉराइड विलयन के अभिक्रिया से पीले रंग का कॅड्मियम सलफाईड का अवक्षेपण होता है और हाइड्रोजन क्लॉराइड बनता है. यह एक युग्म विस्थापन अभिक्रिया है. H2S (g) + CdCl2 (aq) –> CdS (s) + 2 HCl (aq)

When Hydrogen sulphide reacts with Cadmium chloride, yellow coloured cadmium sulphide gets precipitated and hydrogen chloride is formed. It’s a douple displacement reaction. H2S (g) + CdCl2 (aq) –> CdS (s) + 2 HCl (aq)

.३) रिडॉक्स अभिक्रिया यह संकल्पना उदाहरणसहित स्पष्ट करो. Explain redox reaction with an example.

जब किसी अभिक्रिया में आक्सिकरण और अवकरण एक साथ होता हैं, तो उस अभिक्रिया को रिडॉक्स अभिक्रिया कहते हैं. उदाहरण:

BaSO4 + 4C –> BaS + 4CO (S  का अवकरण (आक्सिकरण अवस्था +6 से -2) और C का आक्सिकरण (आक्सिकरण अवस्था 0 से +2))

When in a chemical reaction if oxidation & reduction happens simultaneously, it is known as redox reaction. For example:

BaSO4 + 4C –> BaS + 4CO (S is reduced (oxidation state +6 to -2) & C is oxidized (Oxidation state 0 to +2)).

.४) क्षरण से क्या तात्पर्य है ? सोने के आभूषण का क्षरण होता है क्या ? अगर नही तो क्यों ?

3.4) What do you mean by corrosion? Does gold gets corroded? If not, then why?

हवा, नमी अथवा अम्ल के परिमाण से धातु पर मंद गति से जंग की पर्त जाम जाती है इसे क्षरण कहते हैं. सोने के आभूषणों का क्षरण नही होता क्योंकि सोना एक अति अक्रियाशील धातु है जो की साधारण वातावरण मे किसी भी रसायनिक अभिक्रिया मे भाग नही लेता.

Slow process of deposition of layer or rust due to reaction of metal with air, moisture or acid in the atmosphere is known as corrosion. Gold ornaments do not corrode as it is chemically highly non-reactive under normal atmospheric conditions.

Image result for metal reactivity series

(Source: http://media.web.britannica.com/eb-media/00/174100-004-AE0F760C.jpg)

प्र ४ वैज्ञानिक कारण लिखो. (Give scientific reason)

.१) दरवाजे और खिड़कियों की ज़ालियों को इस्तेमाल से पहले रंग देते हैं.

4.1) Doors and windows are painted before use.

दरवाज़े और खिड़कियों की झालियाँ ज़्यादातर लोहे से बने हैं जिनका वातावरण मे क्षरण हो सकता है. इसे रोकने के लिए उनके सतह पर रंग चढ़ाया जाता है.

Mesh in doors and windows are generally made of iron which can corrode in atmosphere. To prevent this, paint is coated over its surface.

.२) रसायनिक अभिक्रिया लिखते समय अभिकारी और परिणामी पदार्थों की भौतिक अवस्था दर्शाते हैं.

4.2) When we write chemical reactions, we also mention the physical states of reactants and products.

जब हम रसायनिक समीकरण मे अभिकारी और परिणामी पदार्थों की भौतिक आवस्था भी दर्शाते हैं, उससे उस अभिक्रिया की स्पष्टता और भी बढ़ जाती है. जैसे गैस के लिए (g), द्रव के लिए (l), ठोस के लिए (s), और पानी के विलयन के लिए (aq). हमे उनकी अवस्था को जानके ये पता चल जाएगा की अभिक्रिया के लिए किस प्रकार के यंत्रों और पात्रों की ज़रूरत होगी.

When we mention the physical states of reactants and products as well, the clarity of the chemical process increases even more; for example for gases (g), liquids (l), solids (s) and aqueous solutions (aq). It also helps us decide what kinds apparatuses and containers will be needed to carry the reaction.

 

.३) पोटाशियम फेरोसाइयनाइड को गहरे रंग की बोतल मे सूर्यप्रकाश से दूर रखा जाता है.

4.3) Potassium ferrocyanide is kept in dark bottle away from sunlight.

पोटाशियम फेर्रोसैनाइड का प्रकाश उर्जा से विच्छेदन अभिक्रिया हो सकता है और उसका फिर इस्तेमाल नही हो सकता. गहरे रंग के बॉटल मे रखने से उसे रोशनी से बचा सकते हैं और इसीलिए उसे अंधेरे मे भी रखते हैं.

Potassium ferrocyanide can undergo irreversible decomposition reaction under sunlight, making it of no use. Therefore it is kept in dark bottle to prevent absorption of sunlight and thus kept in dark place.

.४) लोहे की वस्तुओं को जंग लगता है, परंतु लोहे से बनाई हुई स्टील की वस्तुओं का क्षरण नही होता.

4.4) Iron utensils get rusted, but stainless steel which is made of iron does not get corroded. Why?

स्टेनलेस स्टील मे लगभग १२ % क्रोमियम, लोहे के साथ, सजातीय रूप से मिश्रित है. जब स्टेनलेस स्टील का वातावर्ण मे आक्सिकरण होता है तो क्रोमियम ऑक्साइड (Cr2O3) की एक पतली सी परत बनती है. लोहे के आक्सिकरण से आइरन ऑक्साइड (Fe2O3) बनता है. क्षरण से बचने के लिए ऑक्साइड की परत निष्क्रिय होनी चाहिए (यानी उसके आर पार इलेक्ट्रॉन या ऑक्सिजन नही बहने चाहिए) और परत का धातु से अटूट बंधन भी होना चाहिए. Cr2O3 के परत मे ये दोनों गुण हैं, इसीलिए उसके सतह नीचे के धातु का आक्सिकरण नही होता. लेकिन Fe2O3 की परत टूट जाती है और नीचे की सतह के लोहे का भी आक्सिकरण होना संभव हो जाता है. इसीलिए स्टेनलेस स्टील का क्षरण नही होता और लोहे का हो जाता है.

Stainless steel has about 12% chromium along with iron in the form of a homogeneous mixture. When it reacts in the atmosphere it undergoes oxidation to form a thin surface layer of Chromium oxide (Cr2O3). Iron forms Iron oxide (Fe2O3). In order to prevent further corrosion the oxide layer should be passive (than means electrons or oxygen atoms should not pass through it) and strongly adherent to the underneath metal. Cr2O3 is both passive and strongly adherent to the metal matrix, but Fe2O3 breaks and exposes the underneath metal for further oxidation. Therefore, stainless steel does not corrode but iron corrodes.

क्षरण: इस्पात बनाम लोहा Corrosion: Steel vs iron
स्टेनलेस स्टील मे क्रोमियम ऑक्साइड बनकर उसे क्षरण से बचाता है                                                                 Chromium in stainless steel protects it from corrosion

.५) लोहे और टिन के डिब्बे में खाद्य तेल अधिक समय तक संग्रहित नही कर सकते.

4.5) Iron and Tin boxes are not used to keep edible oil for long time. Why?

खाद्य तेल मे असंतृप्त वसायुक्त अम्ल होते हैं जो आक्सिकरण होने पर बदबूदार हो जाते हैं. धातु जैसे लोहे और टिन के डब्बों मे यह अभिक्रिया और तेज़ हो जाती है इसीलिए जो लोहे या तीन के डब्बों मे उन्हे ज़्यादा देर नही रख सकते.

Edible oils contain unsaturated fatty acids which can undergo oxidation and become rancid. Metals like iron or tin can accelerate the rate of this reaction, so iron and tin cans are not used for storing them for long time.

 प्र ५) प्राकृतिक वातावरण मे सुबह टहलने पर हम ताज़गी का अनुभव करते हैं, लेकिन यदि हम १० बजने के बाद भीड़ मे टहलने निकले तो ऐसा महसूस नही होता, क्यों ? अपने उत्तर का समर्थन करने के लिए उचित रसायनिक समीकरण लिखो.

Q5) Walking early in the morning in natural environment makes us feel fresh, but if we go out to walk at 10 AM in traffic we don’t feel fresh. Why? Give justification using correct chemical equation.

सुबह के समय वातावरण मे हवा शुद्ध रहता है. समय के साथ गाड़ी, खरखाने मे ईंधन के जलने से हावा मे प्रदूषक गैस जैसे CO, CO2, SO2 आदि की मात्रा बढ़ जाती है, इसीलिए १० बजे टहलने जाने पर ताज़गी का एहसास नही होता.

2C (s) + O2 (g) –> 2CO (g),             2CO (g) + O2 (g) –> 2CO2 (g),       S (s) + O2 (g) –> SO2 (g)

Early in the morning the air is clean. With time due to burning of fuels from vehicles and factories amount of pollutant gases like CO, CO2 and SO2 increase in the atmosphere. Therefore we don’t feel that freshness while going out at 10 AM in crowded places.

Example: 2C (s) + O2 (g) –> 2CO (g),          2CO (g) + O2 (g) –> 2CO2 (g),       S (s) + O2 (g) –> SO2 (g)

प्र ६ निम्नलिखित संकल्पना स्पष्ट करो (Explain the following):

१) बदबू (Rancidity): जब पुराने बचे तेल को गर्म करते हैं तो उसमें झाग आता है और बदबू फैलती हैं. ये सब तेल के असंतृप्त वसायुक्त अम्ल के आक्सिकरण से होता है, और यह प्रक्रिया ऊष्म और धातु उत्प्रेरक के वजह से और तेज़ हो जाता है.

When old oil is heated froth comes along with bad odour. The bad odour comes because unsaturated fatty acids in edible oils undergo gradual oxidation by atmosphere & can be accelerated by heat or metal catalysts. This is known as rancidity.

२) उष्माग्राही अभिक्रिया (Endothermic reaction)

अभिक्रियाएँ जिनमे उत्पाद की कुल उर्जा अभिकारक से ज़्यादा होती है, याने जिनमे आसपास से ऊर्जा या ऊष्म अभीक्रिया के अंदर जाता है उसे कहते हैं. उदाहरण प्रकाशीय-संकलन, गलन, क्वथन आदि.

Reactions in which heat is net energy of the product is greater than that of the reactant, i.e. in which heat is taken up from the surroundings by the system is known as endothermic reaction. Eg. Photosynthesis, Melting, boiling

३) रिडॉक्स अभिक्रिया (Redox reaction): जब किसी अभिक्रिया में आक्सिकरण और अवकरण एक साथ होता हैं, तो उस अभिक्रिया को रिडॉक्स अभिक्रिया कहते हैं. उदाहरण:

BaSO4 + 4C –> BaS + 4CO (S  का अवकरण (आक्सिकरण अवस्था +6 से -2) और C का आक्सिकरण (आक्सिकरण अवस्था 0 से +2))

When in a chemical reaction if oxidation & reduction happens simultaneously, it is known as redox reaction. For example:

BaSO4 + 4C –> BaS + 4CO (S is reduced (oxidation state +6 to -2) & C is oxidized (Oxidation state 0 to +2)).

४) उदासीनीकरण (Neutralization): जब अम्ल और भस्म के बीच अभिक्रिया होती है तो लवण और जल बनता है. इस अभिक्रिया को उदासीनिकरण कहते हैं.

उदाहरण: HCl + NaOH –> NaCl + H2O

When acid and base react they form salt and water. This reaction is known as neutralization.

Eg. HCl + NaOH –> NaCl + H2O

 प्र ७ अत्यंत महीन जस्ते (Zn) का चूर्ण लेकर उसकी CuSO4 के साथ अभिक्रिया होने दो. अब इसी अभिक्रिया को थोड़े बड़े आकार के जसते के कण लेकर दोहराओ, इनमे से कौनसी अभिक्रिया तीव्र गति से होगी और क्यों ?

Take ultrafine powder of Zinc and add it to CuSO4 solution for reacting. Repeat the same reaction using a big piece of Zinc. In which case the reaction is faster? Why?

अगर एक समान वजन लेने पर, अत्यंत महीन जस्ते मे कुल सतह का क्षेत्रफल किसी जस्ते के बड़े टुकड़े से बहुत ज़्यादा होता है. CuSO4 के विलयन के साथ अभिक्रिया मे सबसे पहले सतह मे जस्ते के जो अणु है वे ही भाग लेते हैं, जिनका महीन चूर्ण मे मात्रा ज़्यादा होने पर अभिक्रिया तेज़ होता है.

For a given mass, total surface area of ultrafine zinc powder is much more than that of one big piece of zinc. Since Zn atoms in the surface get in contact and react with CuSO4, fine zinc powder having more surface atoms will react much faster than the big Zn piece.

_____________________________________________________________________________________________________________

कोई संदेह या सवाल के लिए मैल करें (For doubts or questions mail to) : nikhilesh@asanvigyan.in

स्वाध्याय – 1 तत्वों की पाठशाला (रसायन) Self learn – 1 School of Elements (Chemistry)

इस लेखन मे 10 वी कक्षा का पहला अध्याय “तत्वों की पाठशाला” प्रश्नोत्तर लिखे गये हैं. संधर्भ के लिए पाठ पुस्तक, तत्व ताश, और आधुनिक आवर्त सारणी का भी उपयोग करें.

This is the post for sharing the question and answers of Chapter-1, School of Elements. Given below are the questions. Consult your textbook, periodic cards and modern periodic table as a reference.

स्वाध्याय के लिए वीडियो लेक्चर्स (Video lectures for self learning) :

Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=hCnbNdpqpGE  

Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=K6eYkHlez9M

Part 3: https://www.youtube.com/watch?v=q-j1GPmLguE&t=6s

Revision: https://www.youtube.com/watch?v=MCHf8bgEMl8&t=26s

एक बार प्रश्नों के उत्तर खुद से लिखने की कोशिश करें. उसके बाद उत्तर के लिए नीचे स्क्रोल करें.

Once you have given your best attempt, you can slide down further for the answers.

प्रश्नोत्तर 10-वी कक्षा (महाराष्ट्रा शिक्षण-मंडल) Self-learn 10th standard (Maharashtra Board)

1) तत्वों की पाठशाला School of elements

_____________________________________________________________________________________________________________

प्रश्न Questions

_____________________________________________________________________________________________________________

१) रिक्त स्थानों की पूर्ति करो Fill in the blanks:

१) ‘M’ धातु के क्लॉराइड का अणुसूत्र MCl2 है. तो M ___________ समूह का कोई भी तत्व हो सकता है.

1) ‘M’ metal chloride’s formula is MCl2. Then, M can be any element of ______ group.

२) ‘M’ धातु के फ्लोराइड का अणुसूत्र MF है. तो M ___________ समूह का कोई भी तत्व हो सकता है.

2) ‘M’ metal fluoride’s formula is MF. Then, M can be any element of ______ group.

३) आवर्त सारणी मे __________ समूह के सभी तत्व सामान्य तापमान और दाब पर गैसीय अवस्था मे पाए जाते हैं.

3) In periodic table, _______ group’s elements are found in gaseous state at room temperature and pressure.

४) तत्वों को तीन तीन के समूह मे व्यवस्थित करने को ______ कहते हैं.

4) Method of arranging elements in groups of 3-3 is called as __________________.

५) न्यूलॅंड ने तत्वों को व्यवस्थित रखने के लिए जिस नियम का उपयोग किया था उसे ___________ नियम कहते हैं.

5) Newland’s method of arranging the elements of periodic table is known as law of __________ .

६) मेंडेलीव की आवर्त सारणी मे एका-अल्यूमिनियम और एका-बोरों तत्वों को आधुनिक आवर्त सारणी मे __________ और __________ कहा जाता है.

6) In Mendeleev’s periodic table, eka-aluminium and eka-boron are called as _________ and ____________ elements in modern periodic table.

७) अगर एक तत्व का विद्युतृणात्मकता अधिक है, याने रसायनिक बंधन बनाने वाले एलेक्ट्रॉन्स को अपने तरफ आकर्षित करने की, वो एक _________ ( धातु / आधातु ) है. अगर उस तत्व का गुण एलेक्ट्रॉन्स को त्यागने की है, याने विद्युतृणात्मकता कम है, वो एक ________ है.

7) If an element has high electronegativity, i.e. tendency to attract bonding electrons towards itself, it would be a __________ (metal/non-metal). If the element has tendency to give away electrons, i.e. having low electronegativity,it is a ___________. (metal/non-metal)

8) जो तत्व धातु एवं अधातु दोनों के गुणधर्म प्रदर्शित करते हैं उन्हे ______________ कहते हैंउदाहरण ____________ और _____________.

8) Elements that display both metallic and non-metallic properties are known as ___________, for example ___________ and _____________.

9) अल्यूमिनियम के _________ संयोजक एलेक्ट्रॉन्स हैं, __________ उसकी संयोजकता है, वो _____ एलेक्ट्रॉन्स दे देता है इसीलिए उसकी आक्सिकरण अवस्था _____ है. वो एक ________ है.

9) Aluminium has _________ valence electrons, __________ as valency; it gives away _____ electrons and thus has oxidation state of _______. It is a ________.

10) नाइट्रोजन के _________ संयोजक एलेक्ट्रॉन्स हैं, __________ उसकी संयोजकता है, वो _____ एलेक्ट्रॉन्स दे देता है इसीलिए उसकी आक्सिकरण अवस्था _____ है. वो एक ________ है.

10) Nitrogen has ___________ valence electrons, _________ as valency, it can take ______ electrons and thus has oxidation state of _______. It is a __________.

११) हर कोई तत्व रसायानीक प्रक्रिया से एलेक्ट्रॉन्स का लें-दें या बटवारा करके _________ तत्वों के संरूपण को पाने की कोशिश करते हैं.

11) Any element, by chemical reactions in the form of giving-taking or sharing electrons, tries to attain electronic configuration of ____________ elements.

१२) दो धातु आपस मे _________ रसायनिक बँध बनाते हैं, दो आधातु आपस मे _____________ बँध बनाते हैं और धातु और आधातु आपस मे _________ बँध बनाते हैं.

12) Two metals together form __________ bond, two non-metals form ___________ bond and a metal and non- metal forms ____________ bond.

प्र २) वैज्ञानिक कारण लिखिए Give scientific reasons

१) समूह मे नीचे की ओर जाते समय परमाणुओं का आकार बढ़ता जाता है.

1) Within a group when we go downwards, element size increases.

२) आवर्त मे बाईं ओर से दाहिनी ओर जाने पर धात्विक गुणधर्म कम होते हैं.

2) In a period, on moving from left to right, metallic properties decrease.

३) समान समूह के तत्वों की संयोजकता समान होती है.

3) Elements in same group has same valency.

४) आधुनिक आवर्त सारणी मे समूह १८ के तत्व निष्क्रिय हैं, यानी रसायनिक प्रक्रिया मे भाग नही लेते.

4) In modern periodic table group 18 elements are inert, and they don’t take part in chemical reactions.

५) Na का ऑक्साइड Na2O है, Mg का ऑक्साइड MgOहै, और Al का Al2O3.

5) ‘Na’ oxide is Na2O, ‘Mg’ oxide is MgO, and Al oxide is Al2O3.

3) उचित जोड़ियाँ लगाओ Make correct pairs

Element तत्व Classification वर्गीकरण
सोडियम (Sodium)-11 निसक्रिय गैस (Inert gas)
सलफर (Sulphur)-16 संक्रमण धातु (Transition metal)
आर्गॉन ( Argon)-18 आंतरिक संकरमण धातुलॅंतनाइड (Inner transition metal – Lanthanide)
मॅंगनीस (Manganese)-25 सामान्य धातु ( Common metal)
सीरियम (Cerium)-58 अधातु(Non-metal)
युरेनीयम (Uranium)-92 धातुसदृश (Metalloid)
बोरों  (Boron)-5 आंतरिक संकरमण धातुअक्टिनाइड ( Inner transition metal – Actinide)

 प्र ४ संक्षेप मे उत्तर लिखिए Write short answers

१) वर्गीकरण से आप क्या समझते हैं. वर्गीकरण का आवर्त सारणी से क्या संबंध है.

1) What do you understand by classification? What is role of classification in periodic table of elements?

२) मेंडेलीव की आवर्त सारणी के खूबियाँ और दोष लिखिए. उन दोषों को आधुनिक आवर्त सारणी मे कैसे दूर किया गया है.

2) Give merits and demerits of Mendeleev periodic table. How the demerits are removed in modern periodic table?

३) आधुनिक आवर्त सारणी के प्रथम २० तत्वों का एलेक्ट्रॉनिक संरूपण लिखिए. इनमे कौँसे धातु, अधातु और धातुसदृश हैं ?

3) Give electronic configuration of first 20 elements. Which among these are metals, non-metals and metalloids?

४) परमाणु आकार और विद्युतृणात्मकता से आप क्या समझते हैं? वे आवर्त सारणी मे कैसे बदलते हैं, स्पष्ट करो.

4) What do you understand by atomic size and electronegativity? How do they change in periodic table? Explain.

5) इन तत्वों के नाम लिखें Give names for :

1) 3 तत्व जिनके संयोजक कक्षा मे केवल १ एलेक्ट्रान हैं. 3 elements which has only one electron in valence shell.

2) 3 तत्व जिनके संयोजक कक्षा मे २ एलेक्ट्रान हैं. 3 elements which have 2 electrons in valence shell.

3) 3 तत्व जिनके संयोजक कक्षा मे ३ एलेक्ट्रान हैं. 3 elements with 3 electrons in valence shell.

4) 3 तत्व जिनके संयोजक कक्षा मे ४ एलेक्ट्रान हैं.3 Elements with 4 electrons in valence shell.

5) 3 तत्व जिनकी आक्सिकरण अवस्था -३ है, संयोजक कक्षा कुल ८ मे से ५ एलेक्ट्रान हैं. 3 Elements with oxidation state of -3, having 5 out of 8 electrons in valence shell.

6) 3 तत्व जिनकी आक्सिकरण अवस्था -२ है, संयोजक कक्षा कुल ८ मे से ६ एलेक्ट्रान हैं. 3 elements with oxidation state -2, having 6 out of 8 electrons in valence shell.

7) 3 तत्व जिनकी आक्सिकरण अवस्था -१ है, संयोजक कक्षा कुल ८ मे से ७ एलेक्ट्रान हैं. 3 elements with oxidation state -1, having 7 out of 8 electrons in valence shell.

8) ३ तत्व जिनकी संयोजक कक्षा भारी हुई है, जिससे वे रसायनिक प्रक्रिया मे भाग नही लेते. 3 elements which do not react as they have complete valence shell.

9) आवर्त १ के दो तत्व.2 elements of period 1.

10) आवर्त २ के ८ तत्व.8 elements of period 2.

11) आवर्त ३ के ८ तत्व.8 elements of period 3.

_____________________________________________________________________________________________________________

उत्तर Answers 

_____________________________________________________________________________________________________________

१) रिक्त स्थानों की पूर्ति करो Fill in the blanks:

१) ‘M’ धातु के क्लॉराइड का अणुसूत्र MCl2 है. तो M 2nd (भूक्षारीय धातु)  समूह का कोई भी तत्व हो सकता है.

1) ‘M’ metal chloride’s formula is MCl2. Then, M can be any element of 2nd (Alkaline earth metal) group.

२) ‘M’ धातु के फ्लोराइड का अणुसूत्र MF है. तो M 1st (क्षारीय धातु) समूह का कोई भी तत्व हो सकता है.

2) ‘M’ metal fluoride’s formula is MF. Then, M can be any element of 1st (Alkali metals) group.

३) आवर्त सारणी मे 18th (निष्क्रिय गैस) समूह के सभी तत्व सामान्य तापमान और दाब पर गैसीय अवस्था मे पाए जाते हैं.

3) In periodic table, 18th (inert gases) group’s elements are found in gaseous state at room temperature and pressure.

४) तत्वों को तीन तीन के समूह मे व्यवस्थित करने को  त्रिक (डोबेरायनेर) कहते हैं.

4) Method of arranging elements in groups of 3-3 is called as (Doberiener’s) triad.

५) न्यूलॅंड ने तत्वों को व्यवस्थित रखने के लिए जिस नियम का उपयोग किया था उसे अष्टक नियम कहते हैं.

5) Newland’s method of arranging the elements of periodic table is known as law of octaves .

६) मेंडेलीव की आवर्त सारणी मे एकाअल्यूमिनियम और एकाबोरों तत्वों को आधुनिक आवर्त सारणी मे गॅलियम, और जरमेनीयम कहा जाता है.

6) In Mendeleev’s periodic table, the predicted elements eka-aluminium and eka-silicon that were later discovered are called as gallium and germanium in modern periodic table.

७) अगर एक तत्व का विद्युतृणात्मकता अधिक है, याने रसायनिक बंधन बनाने वाले एलेक्ट्रॉन्स को अपने तरफ आकर्षित करने की, वो एक अधातु ( धातु / अधातु ) है. अगर उस तत्व का गुण एलेक्ट्रॉन्स को त्यागने की है, याने विद्युतृणात्मकता कम है, वो एक धातु है. 

7)If an element has high electronegativity, i.e. tendency to attract bonding electrons towards itself, it would be a non-metal (metal/non-metal). If the element has tendency to give away electrons, i.e. having low electronegativity,it is a metal. (metal/non-metal)

8) जो तत्व धातु एवं अधातु दोनों के गुणधर्म प्रदर्शित करते हैं उन्हे धातुसदृश कहते हैं उदाहरण बोरोन और सिलिकॉन.

8) Elements that display both metallic and non-metallic properties are known as metalloids, for example boron and silicon.

9) अल्यूमिनियम के 3 संयोजक एलेक्ट्रॉन्स हैं, उसकी संयोजकता 3 है, वो 3 एलेक्ट्रॉन्स दे देता है इसीलिए उसकी आक्सिकरण अवस्था +3 है. वो एक धातु है.

9) Aluminium has 3 valence electrons, 3 as valency; it gives away 3 electrons and thus has oxidation state of +3. It is a metal.

10) नाइट्रोजन के 5 संयोजक एलेक्ट्रॉन्स हैं, उसकी संयोजकता 3 है, वो 3 एलेक्ट्रॉन्स लेता है, इसीलिए उसकी आक्सिकरण अवस्था -3 है. वो एक अधातु है.

10) Nitrogen has 5 valence electrons, 3 as valency, it can take 3 (8-5) electrons and thus has oxidation state of -3. It is a non-metal.

११) हर कोई तत्व रसायानीक प्रक्रिया से एलेक्ट्रॉन्स का लें-दें या बटवारा करके निष्क्रिय गैस तत्वों के संरूपण को पाने की कोशिश करते हैं.

11) Any element, by chemical reactions in the form of giving-taking or sharing electrons, tries to attain electronic configuration of inert elements.

१२) दो धातु आपस मे धात्विक  बँध बनाते हैं, दो अधातु आपस मे सहसंयोजक बँध बनाते हैं और धातु और अधातु आपस मे आयनिक बँध बनाते हैं.

12) Two metals together form metallic bond, two non-metals form covalent bond and a metal and non- metal can form ionic bond.

प्र २) वैज्ञानिक कारण लिखिए Give scientific reasons

१) समूह मे नीचे की ओर जाते समय परमाणुओं का आकार बढ़ता जाता है.

1) Within a group when we go downwards, element size increases.

किसी समूह मे उपर से नीचे जाने पर, एलेक्ट्रान के कक्षाओं की संख्या बदती जाती है, आखरी कक्षा नाभि से सबसे दूर होता है. इसीलिए परमाणु त्रिज्या बढ़ता है.

Within a group when we go downwards, the number of shells of electronic orbital increases, the last shell being farther away from the nucleus. So the atomic size increases.

atomic-radii-down-group

 २) आवर्त मे बाईं ओर से दाहिनी ओर जाने पर धात्विक गुणधर्म कम होते हैं.

2) In a period, on moving from left to right, metallic properties decrease.

एक ही आवर्त मे बाएँ से दाएँ बढ़ने पर, बाहर्तम सययोजक कक्षा तो वो ही है लेकिन नाभि मे प्रोटॉन्स की संख्या बढ़ जाती है. इस विद्युत बल से नाभि बाहर्तम एलेक्ट्रॉन्स को और भी ज़ोर से खींचता है, जिससे इलेक्ट्रोंस को त्यागने की संभावना कम होती जाती है. इलेक्ट्रॉन त्यागना ही धात्विक गुणधर्म है. दाहिनी ओर के तत्व इलेक्ट्रॉन के लेने या बाँटने से अपने संयोजक कक्षा को पूर्ण करते हैं. इसीलिए एक ही आवर्त मे बाएँ से दाएँ बढ़ने पर धात्विक गुणधर्म घटता जाता है.

When we move within a period, the outermost shell is the same but number of protons (atomic number) increases. This makes the nucleus attract the outer electrons more strongly, thus reducing the tendency of the atom to give away electrons which is the characteristic metallic property. Atoms on far right try to fulfil its octet by gaining or sharing electrons. So, the metallic properties decrease as we move from left to right in a period.

 ३) समान समूह के तत्वों की संयोजकता समान होती है. 3) Elements in same group has same valency.

आधुनिक आवर्त सारणी मे एक ही समूह के सभी तत्वों के बाहर्तम कक्षा (संयोजक कक्षा) मे एलेक्ट्रान की संख्या एक समान होता है इसीलिए वे सब एक ही तरह से उनके एलेकट्रोनों का लें दें या बाँटते है, याने उनकी संयोजकता एक समान है.

Elements of the same group have same number of electrons in their outermost shell. Since the outermost shell is the only shell which takes part in a chemical reaction, all elements of the same group have same tendency to give, take or share electrons i.e. same valency.

मुख्य समूह के तत्वों के संयोजक इलेक्ट्रोंस Valence electrons in main group elements
      मुख्य समूह के तत्वों के संयोजक इलेक्ट्रोंस Valence electrons in main group elements

(Source: https://www.learner.org/courses/chemistry/images/text_img/ValenceElectronPatterns.jpg)

४) आधुनिक आवर्त सारणी मे समूह १८ के तत्व निष्क्रिय हैं, यानी रसायनिक प्रक्रिया मे भाग नही लेते.

4) In modern periodic table group 18 elements are inert, and they don’t take part in chemical reactions.

१८ वे समूह के तत्व सभी के बाहर्तम कक्षा पूर्ण रूप से भरा हुआ है. वे किसी इलेक्ट्रॉन को इसीलिए देना, लेना या बाँटना नही चाहते, और रसायनिक अभिक्रियाओं मे भाग नही लेते.

Elements in the 18th group of modern periodic take have complete outermost electron shell. So they are chemically highly stable and don’t wish to give, take or share electrons by taking part in chemical reactions.

५) Na का ऑक्साइड Na2O है, Mg का ऑक्साइड MgO है, और Al का Al2O35) ‘Na’ oxide is Na2O, ‘Mg’ oxide is MgO, and Al oxide is Al2O3.

Image result for oxidation state and elements

तत्वों की आक्सिकरण अवस्था निर्णय करता है कैसे परस्पर यौगिक बनेंगे Oxidation state of the elements decide the nature of the compound formed between them

(Source: https://namakiri.files.wordpress.com/2013/03/screen-shot-2013-03-27-at-12-51-09-pm.png)

‘Na’ याने सोडियम, जिसका परमाणु क्रमांक ११ है, और इलेक्ट्रॉनिक संरूपण (२,८,१) है, वह एक एलेक्ट्रान देकर निष्क्रिय अवस्था पा सकता है. मॅग्नीज़ियम ‘Mg’-12, का इलेक्ट्रॉनिक संरूपण (२,८,२) है, वह २ इलेक्ट्रॉन देकर निष्क्रिय अवस्था पा सकता है और अल्यूमिनियम Al-13, (२,८,३) टीन इलेक्ट्रॉन देकर. ऑक्सिजन , O-8 (२,६), संयोजक कक्षा मे २ इलेक्ट्रोनों को ले सकता है.

जब धातु और अधातु मे बन्ध बनते हैं, तो धातुओं के द्वारा दिए गये इलेक्ट्रॉन की संख्या और अधातुओं द्वारा लिए गये एलेक्ट्रान की संख्या एक समान होती है.

Na के दो अणु कुल २ एलेक्ट्रान (2 x 1e- =2e-) देते हैं, ऑक्सिजन का एक अणु उसे लेता है(1 x 2e- = 2e-) और Na2O बनता है.

Mg का एक अणु २ इलेक्ट्रॉन देता है (1 x 2e- = 2e- ) और ऑक्सिजन का एक अणु उसे लेता है(1 x 2e- = 2e-), MgO बनता है.

Al के २ अणु कुल 6 इलेक्ट्रॉन देते हैं (2 x 3e- = 6e-) जिसे ऑक्सिजन के ३ अणु ले लेते हैं (3 x 2e- = 6e-), Al2O3 बनता है.

Sodium-11 has (2,8,1) i.e. one electron in outermost shell. It can give 1 electron to gain octet of the previous shell.

Magnesium-12 with (2,8,2) i.e. have 2 electrons to give and alumimium-13 (2,8,3) has 3 electrons to give.

When a compound is formed net electrons given by metals should be equal to net electrons taken by non-metals (oxygen).  Oxygen-8, with electronic configuration (2,6) in outermost shell needs to gain 2 electrons to fulfil its octet.

Therefore it needs 2 sodium atoms (2 x 1e = 2e) to give 2 electrons to one oxygen atom (1 x 2e = 2e) to form Na2O.

One Mg atom gives 2 electrons ( 1 x 2e = 2e) to one oxygen atom which gains it (1 x 2e = 2e) to form MgO.

Two aluminium atoms can give 6 electrons ( 2 x 3e = 6e) to three oxygen atoms (3 x 2e = 6e) to form Al2O3.

3) उचित जोड़ियाँ लगाओ Make correct pairs

Element तत्व Classification वर्गीकरण Element तत्व Classification वर्गीकरण
सोडियम (Sodium)-11 निसक्रिय गैस

 (Inert gas)

सोडियम (Sodium)-11 सामान्य धातु

( Common metal)

सलफर (Sulphur)-16 संक्रमण धातु

(Transition metal)

सलफर (Sulphur)-16 आधातु

(Non-metal)

आर्गॉन ( Argon)-18 आंतरिक संकरमण धातुलॅंतनाइड

(Inner transition metal – Lanthanide)

आर्गॉन ( Argon)-18 निसक्रिय गैस

(Inert gas)

मॅंगनीस (Manganese)-25 सामान्य धातु

( Common metal)

मॅंगनीस (Manganese)-25 संक्रमण धातु

(Transition metal)

सीरियम (Cerium)-58 आधातु

(Non-metal)

सीरियम (Cerium)-58 आंतरिक संकरमण धातुलॅंतनाइड

(Inner transition metal – Lanthanide)

युरेनीयम (Uranium)-92 धातुसदृश

 (Metalloid)

युरेनीयम (Uranium)-92 आंतरिक संकरमण धातुअक्टिनाइड

( Inner transition metal – Actinide)

बोरों  (Boron)-5 आंतरिक संकरमण धातुअक्टिनाइड

( Inner transition metal – Actinide)

बोरों  (Boron)-5 धातुसदृश

(Metalloid)

 प्र ४) संक्षेप मे उत्तर लिखिए Write short answers

१) वर्गीकरण से आप क्या संजते हैं. वर्गीकरण का आवर्त सारणी से क्या संबंध है.

1) What do you understand by classification? What is role of classification in periodic table of elements?

हम एक बड़े और जटिल समूह के सदस्यों को अपने गुणधर्म के अनुसार कई सरल समूहों मे विभाजित करते हैं. इससे अब उनको समजना आसान हो जाता है. किसी एक समूह के सदस्यों मे, या किन्ही दो समूहों के बीच मे जो संबंध है, वो हमे वर्गीकरण के मदद से नज़र आने लगता है. हम इन समूहों की जानकारी से अब तक अंजान सदस्यों के बारे मे भी भविष्यवाणी कर सकते हैं.

आवर्त सारणी मे तत्वों को परमाणु करमांक के बढ़ते क्रम मे रखा गया है और उनके इलेक्ट्रॉनिक संरूपण के हिसाब से वर्गीकरण किया गया है. एक ही समूह के तत्वों का रसायनिक गुणधर्म एक समान है और एक ही आवर्त के तत्वों की संयोजक ( बाहर्तम कक्षा) समान होता है.

We classify one complex large group into simple smaller groups based on common properties of the members. That makes it easy to understand. We can observe possible co-relations between the groups and within the group. We can also make correct predictions about hitherto unknown members of the group.

In periodic table of elements, the elements are arranged in increasing atomic number and classified based on their electronic configuration thus elements of same group have same outermost electronic configuration and chemical properties, and elements in the same period has same outermost  shell number.

२) मेंडेलीव की आवर्त सारणी के खूबियाँ और दोष लिखिए. उन दोषों को आधुनिक आवर्त सारणी मे कैसे दूर किया गया है.

2) Give merits and demerits of Mendeleev periodic table. How the demerits are removed in modern periodic table?

 

मेंडेलीव की आवर्त सारणी के दोष

Demerits of Mendeleev’s periodic table

आधुनिक आवर्त सारणी मे के उपाय

Solutions in modern periodic table

हाइड्रोजन, क्षारीय धातुओं तथा हालजन दोनों के साथ समानता रखता है. इसीलये उसका कोई निश्चित स्थान नही है.

Hydrogen shows similarity with both alkali metals and halogens. Therefore it does not have fixed spot.

हाइड्रोजन को क्षारीय धातुओं के साथ रखा गया है क्योंकि उसके आकरी कक्षा के ‘s’ उपकक्षा मे एक ही एलेक्ट्रान है.

Hydrogen is grouped with alkali metals in group 1 as it has only one electron is s shell.

एक ही तत्व के विभिन्न परमाणु भार वाले अणु रसायनिक दृष्टि से समान हैं, उन्हे एक ही स्थान मे रखना आवश्यक हैं.

Atoms of same element with different atomic masses are chemically same, so they are kept in same place.

आधुनिक आवर्त सारणी प्रोटॉन के क्रमांक पर आधारित है, परमाणु भार पर नही, इसीलिए समस्थानिक जिनके प्रोटॉन संख्या एस समान है, रसायनिक गुणधर्म भी एक समान है और वे एक ही साथ रखे गये हैं.

Since modern periodic table is based on proton number, not atomic mass, isotopes have same proton number giving same chemical properties so grouped together.

कुछ स्थानों पर अधिक परमाणु भर वाले कुछ तत्वों को कम परमाणु भार वाले तत्वों के पहले रखा गया है.(Co, Ni)

In some places, elements with higher atomic mass are kept before lighter element to match chemical nature.

परमाणु करमांक के आरोही क्रम पर आधारित आधुनिक आवर्त सारणी मे Co और Ni रसायनिक गुणधर्म के अनुसार भी सही क्रम मे रखा गया है. (परमाणु क्रमांक Co<Ni, लेकिन परमाणु भार Co>Ni)

Arrangement based on increasing atomic number for Co and Ni gives correct order for chemical nature as well. (परमाणु क्रमांक Co<Ni, लेकिन परमाणु भार Co>Ni)

कुछ आसमान गुणधर्म वाले कुछ तत्वों को एक ही उपसमूह मे रखा गया है. जैसे Mn को हालजन मे.

Some dissimilar elements are kept in same subgroup, for example Mn with halogens.

आधुनिक आवर्त सारणी मे असमान तत्वों को एक साथ रखने का कोई दुविधा नही है. मॅंगनीस संक्रमण तत्वों मे आता है, ना के हेलोजॅन मे.

No such issues in modern periodic table, Mn is kept along with transition metals, not halogens.

३) आधुनिक आवर्त सारणी के प्रथम २० तत्वों का एलेक्ट्रॉनिक संरूपण लिखिए. इनमे कौँसे धातु, अधातु और धातुसदृश हैं ?

3) Give electronic configuration of first 20 elements. Which among these are metals, non-metals and metalloids?

प्रोटॉन संख्या

Proton No.

नाम

Name

एलेक्ट्रॉनिक संरूपण

Electronic configuration

कक्षीय विन्यास

Orbital configuration

धातु / अधातु

Metal/Non-metal

 

1 (H) हाइड्रोजन

Hydrogen

11hydrogen

 

1s1 Non Metal

अधातु

2 (He) हीलियम

Helium

22helium

 

1s2 अधातु

Non-metal

पहला आवर्त समाप्त दूसरा आवर्त शुरू

1st period complete, 2nd period start

3 (Li) लिथियम

Lithium

2,13lithium 1s2  2s1 धातु

Metal

4 (Be) बेरीलियम

Beryllium

2,24berylium 1s2  2s2 धातु

Metal

5 (B) बोरों

Boron

2,35boron 1s2  2s2 2p1 धातुसदृश

Metalloid

6 (C) कार्बन

Carbon

2,46carbon 1s2  2s2 2p2 अधातु

Non-metal

7 (N) नाइट्रोजन

Nitrogen

2,57nitrogen 1s2  2s2 2p3 अधातु

Non-metal

8 (O) ऑक्सिजन

Oxygen

2,68oxygen 1s2  2s2 2p4 अधातु

Non-metal

9 (F) फ्लुरिन

Fluorine

2,79fluorine 1s2  2s2 2p5 अधातु

Non-metal

10 (Ne) नीयान

Neon

2,810neon 1s2  2s2 2p6 अधातु

Non-metal

दूसरा आवर्त समाप्त तीसरा आवर्त शुरू

Second period complete, Third period start

11 (Na) सोडियम

Sodium

2,8,111sodium 1s2  2s2 2p6  3s1 धातु

Metal

12 (Mg) मॅग्नीज़ियम

Magnesium

2,8,212magnesium 1s2  2s2 2p6  3s2 धातु

Metal

13 (Al) अल्यूमिनियम Aluminium 2,8,313aluminium 1s2  2s2 2p6  3s2 3p1 धातु

Metal

14 (Si) सिलिकन

Silicon

2,8,414silicon 1s2  2s2 2p6  3s2 3p2 धातुसदृश

Metalloid

15 (P) फॉस्फरस

Phosphorus

2,8,515phosphorus 1s2  2s2 2p6  3s2 3p3 अधातु

Non-metal

16 (S) सल्फर

Sulphur

2,8,616sulphur 1s2  2s2 2p6  3s2 3p4 अधातु

Non-metal

17 (Cl) क्लोरिन

Chlorine

2,8,7
17chlorine
1s2  2s2 2p6  3s2 3p5 अधातु

Non-metal

18 (Ar) आर्गॉन Argon 2,8,818argon 1s2  2s2 2p6  3s2 3p6 अधातु

Non-metal

तीसरा आवर्त समाप्त चौथा आवर्त शुरू

3rd period complete, 4th period start

19 (K) पोटाशियम

Potassium

2,8,8,119potassium 1s2  2s2 2p6  3s2 3p6 4s1 धातु

Metal

20 (Ca) कॅल्षियम

Calcium

2,8,8,220calcium

1s2  2s2 2p6  3s2 3p6 4s2

धातु

Metal

४) परमाणु आकार और विद्युतृणात्मकता से आप क्या समजते हैं? वे आवर्त सारणी मे कैसे बदलते हैं, स्पष्ट करो.

4) What do you understand by atomic size and electronegativity? How do they change in periodic table? Explain.

परमाणु आकार परमाणु त्रिज्या से ज्ञात होता है, जो की नाभिक केंद्र से सबसे बाहर्तम इलेक्ट्रॉनिक कक्षा के बीच की दूरी हैं. किसी समूह मे उपर से नीचे जाने पर, एलेक्ट्रान के कक्षाओं की संख्या बदती जाती है, आखरी कक्षा परमाणु का बीर्जकेंद्र से सबसे दूर होता है. इसीलिए परमाणु त्रिज्या बढ़ता है. एक ही आवर्त मे बाएँ से दाएँ बढ़ने पर, बाहर्तम सययोजक कक्षा तो वोही है लेकिन नाभि मे प्रोटॉन्स की संख्या बढ़ जाती है. इस वजह से परमाणु का बीर्जकेंद्र, विद्युत बल से, बाहर्तम एलेक्ट्रॉन्स को और भी ज़ोर से खींचता है, और परमाणु त्रिज्या कम हो जाता है.

Distance between the nucleus of the atom to its outermost electron shell is known as atomic radius which is the measure of atomic size. On moving from top to bottom within a group, number of electron shells increase, the last shell being farthest from the nucleus, so atomic size increases. On moving from left to right within a period, number of protons increases but the outermost electron shell remains the same, thereby increasing the attractive electric force of nucleus over its outermost electrons, thus atomic size decreases.

Image result for atomic radii trend

(Source: https://ch301.cm.utexas.edu/svg/atomic-radii.svg)

वैद्युतीयऋणात्मकता किसी भी तत्व के बँध मे होने वाले इलेक्ट्रॉन को अपने ओर आकर्षित करने की क्षमता को दर्शाता है. वैद्युतीयऋणात्मकता किसी समूह मे उपर से नीचे जाने पर कम होता जाता है क्योंकि परमाणु आकर बढ़ने पर केंद्र का बल,  बाहर्तम कक्षा के इलेक्ट्रॉन पर, कम होता जाता है. किसी आवर्त मे बाएँ से दाएँ जाने पर प्रोटॉन का क्रमांक बढ़ता है, जिससे नाभिक केंद्रीय बल बढ़ता है,और वैद्युतीयऋणात्मकता बढ़ता है.

Electronegativity refers to the ability of the atom to pull electrons towards itself within a bond. From top to bottom within a group, electronegativity decreases as atomic size increases and the outer electron shell farther away from the nucleus.

electronegativity_periodic_table

(Source: https://usflearn.instructure.com/courses/986898/files/31116524)

5) Give names for:

1) 3 तत्व जिनके संयोजक कक्षा मे केवल १ एलेक्ट्रान हैं. 3 elements which has only one electron in valence shell.

H-1, Li-3, Na-11

2) 3 तत्व जिनके संयोजक कक्षा मे २ एलेक्ट्रान हैं. 3 elements which have 2 electrons in valence shell.

Be-4, Mg-12 & Ca-20

3) 3 तत्व जिनके संयोजक कक्षा मे ३ एलेक्ट्रान हैं. 3 elements with 3 electrons in valence shell.

B-5, Al-13 & Ga-31

4) 3 तत्व जिनके संयोजक कक्षा मे ४ एलेक्ट्रान हैं.3 Elements with 4 electrons in valence shell.

C-6, Si-14 & Ge-32

5) 3 तत्व जिनकी आक्सिकरण अवस्था -३ है, संयोजक कक्षा कुल ८ मे से ५ एलेक्ट्रान हैं.

3 Elements with oxidation state of -3, having 5 out of 8 electrons in valence shell.

N-7, P-15 & As-33

6) 3 तत्व जिनकी आक्सिकरण अवस्था -२ है, संयोजक कक्षा कुल ८ मे से ६ एलेक्ट्रान हैं.

3 elements with oxidation state -2, having 6 out of 8 electrons in valence shell.

O-8, S-16 & Se-34

7) 3 तत्व जिनकी आक्सिकरण अवस्था -१ है, संयोजक कक्षा कुल ८ मे से ७ एलेक्ट्रान हैं.

3 elements with oxidation state -1, having 7 out of 8 electrons in valence shell.

F-9, Cl-17 & Br-35

8) ३ तत्व जिनकी संयोजक कक्षा भारी हुई है, जिससे वे रसायनिक प्रक्रिया मे भाग नही लेते.

3 elements which do not react as they have complete valence shell.

He-2, Ne-10 & Ar-18

9) आवर्त १ के दो तत्व.2 elements of period 1.

H-1 & He-2

10) आवर्त २ के ८ तत्व.8 elements of period 2.

Li-3, Be-4, B-5, C-6, N-7, O-8, F-9 & Ne-10

11) आवर्त ३ के ८ तत्व.8 elements of period 3.

Na – 11, Mg-12, Al-13, Si-14, P-15, S-16, Cl-17 & Ar-18

_____________________________________________________________________________________________________________

_____________________________________________________________________________________________________________

कोई संदेह या सवाल के लिए मैल करें (For doubts or questions) mail to: nikhilesh@asanvigyan.in

ट्विंकल ट्विंकल लिट्ल स्टार भाग-1 (Twinkle Twinkle Little Star Part – 1)

हम सब बचपन मे ट्विंकल ट्विंकल लिट्ल स्टार कविता सुने होंगे. रात मे बैठे आसमान के अनगिनत तारों को गिनना, उनको काल्पनिक लकीरों से जोड़ना और आकार बनाना, इस विशाल ब्रह्मांड के विस्मय रूप का आनंद लेना, अपने आप मे अलग ही मज़ा है. लेकिन उससे एक कदम आगे बढ़के उनके बारे मे जानना तो सोने पे सुहागा होगा!
आओ इन अरबों तारों का नज़ारा फिर से देखें, लेकिन अब वैज्ञानिक नज़रिए से. नीचे दिए गये पंक्तियाँ इस कविता का पहला भाग है.
We all are familiar with the nursery rhyme ‘Twinkle Twinkle little star’. Sitting and gazing in the night sky, counting countless stars, connecting them with imaginary lines and patterns, enjoying the view of this vast universe is a pleasure on its own. But going one step ahead and knowing about the real story of the stars and the sky is like icing on the cake! Let’s take a fresh look at the night sky hosting billions of stars, this time with a scientific view in mind! The following stanzas are the first part of the poem.

1)

twinkle1

2)

twinkle2

3)twinkle3

4)twinkle4

5)twinkle5

6)twinkle6

7)twinkle7

8)twinkle8

_____________________________________________________________________________________________________________

चित्र संदर्भ (Image References)

  1. https://s-media-cache-ak0.pinimg.com/564x/d0/4b/cb/d04bcbcdc8174c5f36f73c91b134db89.jpg
  2. http://www.laoparis.com/night-sky-telescope-october/, https://cdn2.img.ria.ru/images/138310/43/1383104371.jpg
  3. http://serbiosunidos.com/sr/2016/06/kusti-u-goste-hoze-muhika-najsiromashniji-predsednik-na-svetu-stigao-na-me-avnik/
  4. https://prod-edx-mktg-edit.edx.org/course/atoms-stars-how-physics-explains-world-mephix-mephi003x
  5. https://pixabay.com/en/photos/rainbow%20colors/
  6. https://www.youtube.com/watch?v=pxC6F7bK8CU, https://www.britannica.com/technology/prism-optics/images-videos
  7. http://www.umop.net/spctelem.png
  8. http://www.jpl.nasa.gov/video/details.php?id=1316

_____________________________________________________________________________________________________________

Bhagat Singh – The Iron Willed

Bhagat Singh – The Iron Willed

Ever heard of Bhagat Singh?

The one mentioned in our history books.

And shown in flicks as a young kingpin,

Waging war on Imperial crooks?

Do you then see him as a young brave man?

With mustache, coat; with hat and boots?

Was his life just a flash in the pan?

Of a fearless fighter, ready to shoot?

Movies did made a point to show,

He lived without fear like an extremist.

There’s more of him, would you like to know ?

From the jail notes; that he’s a rationalist?

His pop-persona does deserve a bow!

But still there’s a lot, quite unknown.

When his sands of time were running low

That’s when his ideas had really shone!

He read and formed strong ethical views

As a humanist and a socialist.

His views on god, let me give you a clue,

He penned, “Why I am an atheist!”

A lunatic free even in jail,

Wrote notes that spurred a revolution,

Withstood the test of time to prevail,

And invigorate us for generations.

Spare some time to read his words!

Wherein his inner-life appears!

His weapon as a pen; not a sword!

And bombs? Just for the deaf to hear!

May his views be spread and heard,

Felt deep by heart, understood by mind.

For life and death will be well served;

Inqlaab to free our humankind!

Free from hunger, free from greed;

From blinding hate and apathy!

Free from hollow words and deeds;

From old and new chicaneries!

Let him roar in our souls,

“Inqlaab will never be killed!”

Glory to the Legacy of

Bhagat Singh, the Iron-willed!

Inqlaab Zindabaad !

We all are familiar with the most beloved freedom fighter of India, Bhagat Singh. The brave heart, martyr; an  extremist. There were 5 bollywood movies on his life, romanticizing him and portraying him as the ideal son of the soil. The first two Shaheed-E-Azad (1954) and Shaheed (1965), did well in the cinemas. The next 3, Shaheed-e-Azam: Bhagat Singh, The Legend of Bhagat Singh and 1931: Shaheed, oddly released in the same year, 2002, fared just enough to recover the production costs. Maybe the millennials do not have much of an attachment towards the freedom fighters as their grandparents had? Or maybe any typical biopic on Bhagat Singh so far has been like a disconnected highlight reel without a backbone; jumping from scenes of him protesting, motivating fellowmen, teaming up with other fighters, gunning down a police, throw bombs at the parliament, scenes where he’d debate with the judge, the hunger strike, emotional drama between mother and son, and finally his hanging. His charismatic side of personality does deserve admiration. But what about his contemplative side ? His views on Casteism ? God ? Capitalism ? Anarchy ? Will the real Bhagat Singh hurt religious or class based sentiments ?

Hoping for a brave movie someday, as brave and authentic as the man himself; a movie that would educate and elucidate rather than run on popular emotions and ‘idiot-box office’ agendas. The nationalistic jingoism associated in these movies are sad to see and seems to go dead against Bhagat Singh’s reality. Wondering if the directors, producers, and actors have ever actually read the best reference available to write about his story, his own jail notes. Towards the later part of his life, he had noted down gems of ideas, collections from various revolutionary books he had read, treasured in his Jail notebook. (Bhagat Singh seemingly had penned 4 books during his stay in jail but sadly only a short synopsis of his writings have survived.) To quote him:

“Any man who stands for progress has to criticize, disbelieve and challenge every item of the old faith. Item by item he has to reason out every nook and corner of the prevailing faith. If after considerable reasoning one is led to believe in any theory or philosophy, his faith is welcomed. His reasoning can be mistaken, wrong, misled and sometimes fallacious. But he is liable to correction because reason is the guiding star of his life. But mere faith and blind faith is dangerous: it dulls the brain, and makes a man reactionary.” 

Deep beneath our revolutionary hero resided an avid reader, thinker, rationalist and a great visionary that never got enough ‘air-time’ among the general population. Let’s not fall into the trap of labeling him an ‘Indian’ or something like that. He sought and fought for not just a transfer of power form white to brown people, but rather a transformation in society aligned to better human values. If he were alive today, he’d be more of a world citizen and an empathetic anarchist, who would have created a dream world of his own. As given in the assembly leaflet,

“We dream of a glorious future, when man will be enjoying perfect peace and full liberty. But, the sacrifice of few individuals at the altar of the great revolution that will bring freedom to all, rendering the exploitation of man by man impossible, is inevitable.” 

It’s this aspect of Bhagat Singh; his detachment from an ego-based stance, and total acceptance of his actions as a sacrifice for a greater cause of ending exploitation of man by man, and outright rejection of all sugar-coated mystical pursuits of god or afterlife, arguably, formed the backbone of his Iron will. Especially relevant to us today, his dream and goals deserve deep introspection and implementation from within. To go deeper into what he meant by revolution,

” We must make it clear that revolution does not mean an upheaval. Revolution necessarily implies the programme of systematic reconstruction of society on a new and better adopted basis, often necessitating complete destruction of the existing state of affairs. It was one of the illusions of each generation that the social institutions in which it lived were natural and permanent. Yet for countless years social institutions had been superseded by other adopted to temporary needs.”

It’s quite clear he meant Inqlaab as not just one act of bravery, but a systematic approach to bring in the changes in the existing setup, keeping in view of the end goal of greater well being for all. If there are systems that prevent us from doing so, then they need to be uprooted mercilessly. And this process of reconstruction and demolition would naturally start from the individual, and slowly gather momentum over time, marching towards common goal of freedom. On behalf of a generation inspired by his Inqlaab, this post is just a small salute to our favorite hero, our role-model & inspiration behind this website; who still is well alive in the form of consolidated ideas and highest of ideals.

 bhagat-singh_modern-avatar

Some video links, references, readings and writings:

  1. Delhi University’s Associate Professor (History), Dr. Anirudh Deshpande’s article “Recalling Bhagat Singh : Atheist, Internationalist and Marxist” gives a lucid insight into the core of Bhagat Singh’s ideologies in context of his life. As he sums up, “Bhagat Singh had a number of political choices before him but the fact that he consciously abjured them in favor of a fiery independence, atheism and internationalism is worthy of introspection, if not emulation.”
  2. “Why I am an Atheist” Bhagat Singh: Epified in this vivid illustration of his ideology and rationale behind him being an atheist when accused by his friend of being puffed up by vanity (Hindi: मैं नास्तिक क्यों हूँ and English: Why I am an Atheist)
  3. “Would Bhagat Singh like modern India ?” A nice collection of his quotes in context of modern times, raising concerns about the misinterpreted ideas and ideals about Bhagat Singh.
  4. From one of the most inspiring online newspapers in India, “5 Immortal Ideas Of Sardar Bhagat Singh That Continue To Live And Inspire The Nation”, Nalin Rai, Better India, March 24, 2015.